टमाटर खाने से किडनी स्टोन

टमाटर खाने से किडनी स्टोन

अगर हम टमाटर के सेवन के बारे में बात करें तो कुछ लोगों का मानना हैं कि टमाटर का सेवन करने से किडनी स्टोन अर्थात पथरी की समस्या हो सकती है। इतना ही नहीं अधिकाश लोगों के भीतर कई चीजों को लेकर मिथ और पूर्वाग्रह होते हैं। सेहत और खानपान भी इससे अछूते नहीं हैं।

टमाटर से किडनी पैदा होती हैं यह सोच कर लोग टमाटर का सेवन छोड़ देते हैं। जिससे वो टमाटर के फायदों से वंछित रह जाते हैं लेकिन क्या इस धारणा के पीछे कोंई सच्चाई भी है। क्या सच में ही टमाटर खाने से किडनी स्टोन की समस्या हो जाती है। आइये जानते हैं क्या सच में ही टमाटर खाने से किडनी स्टोन पैदा होते हैं।

क्या है सच्चाई

जब आप अधिक मात्रा में खाद्य पदार्थों का सेवन करते हो तो तब आपमें किडनी स्टोन होने की आशंका बढ़ जाती है। जबकि टमाटर में आक्जालेट मौजूद होते है। लेकिन उसकी मात्रा सीमित होती है और संतुलित मात्रा में इसका सेवन करने से किडनी स्टोन नहीं होता। लेकिन अगर आप नियमित रूप से अधिक मात्रा में टमाटर या पालक और टमाटर को साथ कर लगातार खाने से स्टोन होने का खतरा बढ़ सकता है। हालांकि इस बिषय पर अभी और शोध होने की आवश्यकता है।

बैंगन व दूध आदि से  भी नहीं होती पथरी

बैंगन और दूध में कैल्शियम की अधिक मात्रा होने के बावजूद किडनी स्टोन होने से इनके सेवन का कोई संबंध नहीं है। जबकि वास्तव में तो कैल्शियम की कमी के कारण किडनी स्टोन का खतरा बढ़ सकता है। इस धारणा के चलते हुए दूध का सेवन छोड़ देना सही नहीं है।

इन चीजों से हो सकती है स्टोन की समस्या

चाय, कॉफी, पालक, नट्स और एरेटेड़ ड्रिंक, ऑक्जालेटेड़ फूड्स अधिक नमक वाले फूड्स जैसे अचार, मेरिनेड किया हुआ भोजन स्टोन का कारण बन सकता है। इसके इलावा जब आप सी फ़ूड और टेबल साल्टेड रेड मीट का अधिक सेवन करते हो तो यह पथरी का कारण बन सकता है। क्योंकि इसमें यूरिन की अधिक मात्रा पाई जाती है। इसके इलावा जब आप आपनी का कम सेवन करते हो तो यह भी स्टोन पैदा करने का एक मुख्य कारण बन जाता है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।