पैरों की सूजन के लक्षण, कारण और उपचार

pairon-me-sujan-ke-upay

आज हम इस आर्टिकल के द्वारा आपको पैरों की सूजन, लक्षण, कारण और उपचार के बारे में बतायेंगें। एडिमा जिसको सामान्य भाषा में सूजन के नाम से जाना जाता है। जब शरीर में कुछ उतकों असामान्य रूप से द्रव इकठा हो जाता है। जिसके कारण सूजन पैदा होने लगती है वैसे तो पैरों की सुजन एक आम बात है।

यह कोई बड़ी बिमारी नहीं होती लेकिन इससे आपको कई तकलीफों से गुजरना पड़ता है। आमतौर पर पैरों की सूजन अधिक वजन होने, अधिक समय तक एक स्थान पर बैठे रहने या खड़े रहने से, प्रेगनेंसी, बढ़ती हुई उम्र या फिर सही तरीके और सही समय पर न खाने पीने से हो सकती है। आइये विस्तार से जानते हैं पैरों की सूजन, लक्षण, कारण और उपचार के बारे में।

पैरों की सूजन के लक्षण

पैरों की सूजन के लक्षण कुछ इस प्रकार से हैं

  • सूजी हुई, तनी हुई और चमकदार त्वचा,
  • शरीर में अकडन और जोड़ों दर्द,
  • वजन का बढ़ना या कम होना,
  • हाथ और गर्दन की नसे उभरना,
  • अगर त्वचा की अँगुलियों को दबाने के बाद कुछ सेंकड तक उसमें गढ्ढा बन जाता है,
  • नाड़ी तेज होना और ब्लडप्रेशर का बढ़ना,
  • सिरदर्द,
  • पेट में दर्द,
  • मतली और उल्टी,
  • देखने में असामान्यता आदि।

पैरों की सूजन के कारण

पैरों की सूजन का आम कारण हैं इन्फ्लमेंशन या चोट का लगना

1. गुरुत्वाकर्षण

पैरों की सूजन का कारण गुरुत्वाकर्षण भी हो सकता हैं जब आप अधिक समय तक एक ही स्थान पर बैठे रहते हैं या फिर लंबे समय तक कुर्सी पर बैठ कर कार्य करते हो तब गुरुत्वाकर्षण के कारण द्रव नीचे पैरों की तरफ जाने लगता है। यह सुजन रात के समय होती हैं और सुबह तक रहती हैं।

2. हार्ट फेलियर

जिन लोगों का दिल कमजोर होता हैं वो पुरे शरीर को सही ढंग से रक्त देने में असमर्थ होते हैं। इसका परिणाम यह निकलता है कि रक्त वाहिकाओं से रक्त बाहर निकल कर नीचे उतकों में जमा होने लगता है। जिसके कारण पैरों में सूजन पैदा होने लगती है। हार्ट फेलियर लोगों के लिए यह गंभीर समस्या बन सकती है।

3. खून में प्रोटीन का स्तर कम होना

कुछ मामलों में जिन लोगों के खून में प्रोटीन का स्तर कम होने लगता है। उन लोगों के पैरों में सूजन होने लगती है।

4. लिवर का रोग

जिन लोगों को लिवर से संबंधित रोग होता है उनके शरीर में अक्सर एलब्यूमिन कम हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लिवर पर्याप्त मात्रा में एल्बयुमिन नहीं बना पाता और दूसरी और किडनी एलब्युमिन को मूत्र में मिलाकर शरीर से बाहर निकाल देते हैं।

5. गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान स्त्री के पैरों मे सूजन हो जाती है जो बाद में ठीक हो जाता है। गर्भवती महिला के शरीर में खून की मात्रा बढ़ने से पैरों में सूजन पैदा होने लगती है।

6. एलर्जी और संक्रमण

कई बार त्वचा में एलर्जी और संक्रमण होने के कारण भी पैरों में सूजन होने लगती है।

7. खून के थक्के

जिन लोगों की टांगों में खून के थक्के जमने लगते हैं। उनकी टांगों में सूजन होने लगती है खून के थक्के जमने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कई घंटों तक टांगों का न हिलना, फ्रेक्चर होना आदि।

अन्य कारण

  • मोटापा,
  • वृद्दावस्था,
  • टांग में संक्रमण,
  • टांग में कोई ऐसी नस जिसको सही तरीके से खून न मिल पाया हो
  • एक्सरसाइज न करना,
  • डायबीटीज आदि।

पैरों की सूजन के घरेलू उपाय

पैरों की सिंकाई

पैरों की सिंकाई करने के लिए कांट्रास्ट हाइड्रोथेरेपी अपना सकते हैं। इस थेरेपी में दो फूट तक ठंडा और गर्म दोनों तरह का पानी अलग अलग टब में भर लें। अब सबसे पहले अपने पैरों को तीन से चार मिनट के लिए गर्म पानी में डालें जब आप अपने पैरों को गर्म पानी से बाहर निकालते हो तब तुरंत ही अपने पैरों को एक मिनट के लिए ठंडे पानी में डालें।

इस प्रक्रिया को पन्द्रह से बीस बार दोहराएं दिन में ऐसा कई बार करें और इस प्रक्रिया को उतने दिन तक दोहराएं। जब तक आपके पैरों की सूजन कम न हो जाएं। यह नुस्खा तुरंत ही आपके पैरों की सूजन को कम कर देता है। गर्म पानी से जहां ब्लड सर्कुलेशन ठीक हो जाता है। वहीं ठंडे पानी से सूजन दूर हो जाती है।

मसाज

मसाज सूजन को कम करने का एक अचूक उपाय है। मसाज करने के लिए जैतून का या सरसों का तेल लें। उस तेल को हल्का सा गर्म करें अब तेल को अपने हाथों  में लेकर रब करें और पांच मिनट तक उपर की ओर पैरों की मसाज करें ध्यान रहें। मसाज के दौरान पैरों पर बहुत ज्यादा दबाव न पड़े जब आप पैरों की मसाज करते हो तब आपका ब्लड सर्कुलेशन ठीक हो जाता है और प्रभावित हिस्सों में दबाव पड़ता हैं। जिससे पैरों को बहुत ही आराम मिलता है।

धनिया के बीज

पैरों की सूजन को कम करने के लिए धनिया के बीज बहुत ही उपयोगी सिद्द होते हैं। धनिये के बीजों का उपयोग करके सूजन को जल्द ही खत्म किया जा सकता है।यह एक पापलुर आयुर्वेदिक चीज है। इसका उपयोग करने के लिए एक कप पानी में दो से तीन चम्मच धनिया बीज डालें। इसको उस समय तक उबालें। जब तक कप का पानी आधा न रह जाएं। इसका सेवन धीरे धीरे करके करें दिन में दो बार इसका सेवन करें और तब तक करें जब तक आपको आराम न मिलें।

एक्सरसाइज

पैरों की सूजन को कम करने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करें। क्योंकि यह पैरों की सूजन को कम करने के लिए बहुत ही जरूरी है। एक्सरसाइज में आप स्विमिंग भी कर सकते हैं। सप्ताह में कम से कम पांच दिन तीस मिनट तक जागिग या वाकिंग करें। पैरों को स्ट्रेच करने वाली एक्सरसाइज करें। इसके इलावा नियमित शुड्युल में योगा को शामिल करें। इससे आपके पैरों की सूजन दूर हो जाती है।

अदरक

सूजन को कम करने के लिए अदरक बहुत ही फायदेमंद साबित होता है। अदरक सूजन आने के मुख्य कारक सोडियम को पतला कर देता है। सूजन को कम करने के लिए अदरक के तेल से पैरों में कई बार मसाज करें। आप चाहे तो अदरक की चाय या अदरक के पीस कर भी खा सकते हैं।

नीबू पानी

जब आप नींबू पानी का सेवन करते हो तब आपकी बॉडी से टाक्सिस निकल जाते हैं। इससे पैरों और शरीर के अन्य हिस्सों में सूजन भी कम होती है। इसका प्रयोग करने के लिए एक कप हल्के गर्म पानी में दो चम्मच लेमन जूस को मिक्स करें और फिर इसमें थोडा सा शहद मिला लें। कुछ दिनों तक नियमित रूप से नींबू पानी का सेवन करें। इससे आपकी सूजन कम हो जाती है

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।