नसों में दर्द के कारण और उपचार

नर्व पेन या न्युराल्जिमा किसी ख़ास नर्व में होता है। न्युराल्जिमा में जलन, संवेदनहीनता या एक से अधिक नर्व में दर्द फैलने की समस्या भी हो सकती है। न्युराल्जिमा के द्वारा आपकी कोई भी नस प्रभावित हो सकती है। अगर आप चाहते हैं कि आपको नसों में दर्द होने का सही मतलब के बारे में पता हो। तो चलिए जानते है नसों में दर्द के कारण और उपचार के बारे में।

नसों में दर्द के कारण

  • ड्रग्स,
  • रसायनों के कारण परेशानी,
  • मधुमेह,
  • संक्रमण जैसे शिन्गल्स, सिफलिस और लाइम डिजीज,
  • पारफाइरिया, नजदीकी अंगों से नर्व पर दबाव पड़ना,
  • नर्व में सूजन या तकलीफ आदि।

नर्व पेन एक जटिल और क्रानिक तकलीफ़देह स्तिथि होती है। ऐसे में अगर आपकी समस्या समाप्त हो भी गई है तब भी यह दर्द स्थाई रूप से बना रहता है। नर्व पेन में दर्द शुरू होने और इस रोग की पहचान होने तक कुछ दिन से लेकर आपको कुछ हफ्ते लग सकते हैं। नर्व को थोडा सा भी नुकसान पहुंचने पर भी आपको दर्द का सामना करना पड़ सकता है।

नसों में दर्द के लक्षण

  • जलन की अनुभूति, संवेदनहीनता और पूरी नसों में दर्द का होना।
  • शरीर के प्रभावित भाग की गति और कार्य प्रणाली मांसपेशियों की कमजोरी, दर्द या नर्व की क्षति के कारण अवरुद्ध हो जाती है। दर्द अचानक उठता है और बहुत तेज दर्द होना जैसे कोई नुकीली चीज चुभ रही हो या जलन की अनुभूति होती है। यह दर्द लगातार रह सकता है या फिर यह रुक रुक कर हो सकती है।
  • छूने से या दबाने से दर्द महसूस होती है और चलना फिरना भी कष्टदायक हो जाता है।
  • प्रभावित नर्व के पथ में दर्द रहता है या यह दर्द बार बार होता है।

जांच और रोग निदान

किसी एक जांच से नर्व पेन की पहचान नहीं की जा सकती। प्रांरभ में डॉक्टर आपके लक्षणों और दर्द के विवरण के साथ शारीरिक जांच से रोग की पहचान करने का प्रयास करता है। आपके शरीर की जांच के द्वारा उसे पता चल सकता है जैसे

  • त्वचा में असामान्य अनुभूति।
  • गहरी टेंडन रिफ्लेक्स में कमी या फिर मांसपेशियों का कम होना।
  • प्रभावित क्षेत्र से पसीना कम आना।
  • नर्व के पास स्पर्श से दर्द या सूजन महसूस होना।
  • ट्रिगर प्वाइंट या ऐसे क्षेत्र जहां हल्के से छू देने से भी दर्द शुरू हो सकता है।
  • दांतों की जांच, जिसमे फेशियल पेन को जन्म देने वाली दांतों की समस्या शामिल नहीं है।
  • प्रभावित क्षेत्र के लाल हो जाने या सूजन आने जैसे लक्षण जिससे संक्रमण,हड्डी टूटने या अर्थाराइटीस की स्तिथि की पहचान में सहायता मिले।

नसों की दर्द का उपचार

नसों की दर्द का इलाज सामान्यतया कठिन होता है और प्राय: दर्द से राहत देने वाले इलाजों से इस दर्द में कोई अंतर नहीं आता। ऐसे में कई बार आपको चिकित्सा पद्दतियों को अजमाने की आवश्यकता होती है। ताकि आपको इस बारे में पता चल सकें कि कौन सी प्रणाली आपके लिए लाभकारी है। कई बार समय के साथ इसमें खुद ब खुद सुधार आने लगता है। नसों की दर्द का इलाज आसान नहीं है। इसके उपचार के मुख्य लक्ष्य है

  • दर्द की तीव्रता कम होना।
  • स्थाई दर्द से जूझने में आपकी सहायता करना।
  • डायबीटीज के रोगियों में शुगर पर नियंत्रण करके लाभ होना।
  • अपने दैनिक जीवन पर दर्द का प्रभाव हो जाना।
  • कभी कभी ट्यूमर या किसी अन्य वजह से नस पर दबाव पड़ने की वजह से उसमें दर्द होता है

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।