नेल पॉलिश लगाने के नुकसान

नेल पॉलिश लगाने के नुकसान जाने आपकी सेहत के लिए क्यूंकि इसमें केमिकल होते हैं जिसके दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं

महिलाएं अपने नाखूनों को लेकर अक्सर बहुत ही चिंतित रहती हैं। उनमें दूसरों के मुकाबले अपने नाखूनों को ओर सुंदर की चाह होती हैं। जिसके लिए वो नेल पालिश का इस्तेमाल करती हैं लेकिन वो नेल पॉलिश लगाने के नुकसान के बारे में नहीं जानती। मेल पॉलिश का इस्तेमाल भले ही नाखूनों को सुंदर बनाने के लिए किया जाता हो लेकिन यह आपकी जान को खतरे में डाल सकता है।

महिलाएं अपनी तसल्ली के लिए भले ही कितना ही महंगा प्रोडक्ट क्यों न खरीद लें। लेकिन उसमें कई ऐसे प्रोडक्ट होते हैं जो आपकी सेहत के लिए हानिकारक सिद्द होते हैं। उन्हीं में से एक है नेल पॉलिश नाखुनो को सुंदर बनाने के लिए महिलाएं नेल पेंट का इस्तेमाल करती है। अलग अलग तरह के नेल पेंट का इस्तेमाल करके नाखूनों को ओर आकर्षित बनाया जाता है। जिसको हम नेल आर्ट के नाम से भी जानते हैं।

आज हम आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में परिचित करवाएंगे। विभिन्न प्रकार के शोधो से यह बात सामने आई है कि नेल पेंट को लगाने से भयानक रोग पैदा हो सकते हैं। उन्हीं में से एक है कैंसर। इस बात को तो सभी जनते हैं कि नेल पेंट में कई तरह के कैमिकल पाएं जाते हैं। जिनका प्रयोग नाखूनों पर करने से खतरनाक साबित हो सकता है। यह कैमिकल हमारे स्वास्थ्य को किस प्रकार से प्रभावित करते हैं आइये इस बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं।

टालूइन नामक कैमिकल

नेल पेंट में स्मूथ फिनिशिंग के लिए टालूइन नामक कैमिकल पाया जाता है। यह कैमिकल आम तौर से कार में इंधन डालने वाले गैसोलीन में इस्तेमाल किया जाता है। जब यह कैमिकल हमारे नाखूनों के संपर्क में आता है तब यह धीरे धीरे करके नाखुनो की कोशिकाओं से निकलता हुआ शरीर की अन्य कोशिकाओं से संपर्क बना लेता है। यह कैमिकल नर्वस सिस्टम और दिमाग के साथ साथ रिप्रोडक्टिव सिस्टम को भी प्रभावित करता है।

डाइब्यूटाइल पैथेलेट पदार्थ

नेल पेंट्स को लचीला बनाने के लिए डाइब्यूटाइल पैथेलेट नामक पदार्थ का इस्तेमाल किया जाता है जो शरीर को नुकसान पहुंचाता है। यह रसायनिक पदार्थ महिलाओं के रिप्रोडक्टिव ट्रैक्ट को नुकसान पहुंचाता है। यूरोप में कई देशो में इस कैमिकल के इस्तेमाल पर पाबंदी भी लगी हुई है।

रक्त का सूखना

अगर आप नेल पेंट का इस्तेमाल कर रहे हो तब उसे जितना हो सकें उतनी देर कम लगा कर रखना चाहिए। क्योंकि नाखुनो तक सूरज की किरणों का पहुंचना बहुत जरूरी होता है नहीं तो, आपका रक्त सूखने लगता है और यह खतरनाक संकेत हो सकता है।

स्पिरिट का इस्तेमाल

आपको यह जानकर हैरानी आवश्यक होगी कि नेल पॉलिश को बनाने में स्पिरिट का भी इस्तेमाल किया जाता है जो आपके फेफड़ों को बुरी तरह से प्रभावित करता है। क्या आप जानते हैं कि यह स्पिरिट आपके फेफड़ों तक कैसे पहुंचता है?

असल में नेल पेंट में आने वाली तेज महक इसी स्पिरिट के कारण होती है। जब हम नेल पेंट को नाखूनों पर लगाते हैं तब इसकी महक सांस के द्वारा फेफड़ों तक पहुंचती है। नेल पेंट की तेज महक आपको अधिक नुकसान न पहुंचाए इसके लिए हमेशा पंखा बंद कर देना चाहिए।

सावधानी

जब आप नेल पेंट खरीदने जाएं तब आपको बहुत ही सावधानी की आवश्यकता होती है जब आप सही सही नेल पेंट का चुनाव करते हैं तब वो आपकी सेहत पर होने वाले नुकसान को कम कर देता है। नेल पेंट के नुकसान से बचने के लिए हमेशा लो रेंटिंग टाक्सिटी वाला ही प्रोडक्ट खरीदें। अगर आपको कोई रेंटिंग नहीं दिखाई दें तो प्रोडक्ट का लेबल चेक कर लें।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।