मिश्री खाने के 9 फायदे

मिश्री खाने के फायदे जाने क्यूंकि यह आयुर्वेदिक घरेलु उपाय की तरह काम करती है खांसी, हीमोग्लोबिन, मुँह के छाले, नकसीर आदि में, rock sugar health benefits in hindi

दोस्तों, आज हम आपको मिश्री खाने के फायदे के बारे में जानकारी देंगें। मिश्री चीनी का बड़ा स्वरूप होता है शक्कर के जमे हुए कण को मिश्री कहते हैं। मिश्री उत्पादन का मूल स्त्रोत भारत और पर्शिया है। मिश्री मिठास का ही दूसरा नाम है। धार्मिक रूप से भारतीय धर्म के लोग मिश्री का उपयोग तरह तरह से करते हैं। भगवान श्री कृष्ण जी को भी मक्खन और मिश्री का भोग लगाया जाता है।

अगर किसी की वाणी मीठी हो तो उसे हम कहते हैं कि इसने तो कानों में मिश्री घोल दें। मिश्री सिर्फ स्वाद से ही मीठी नहीं होती है बल्कि मिश्री खाने के फायदे भी सेहत के साथ जुड़े हुए है। मिश्री का सेवन आप माउथ फ्रेश्नर, गले की खराश, खांसी को दूर करने, हीमोग्लोबिन को बढ़ाने आदि के लिए किया जाता है। आइये विस्तार से जानते हैं मिश्री खाने के फायदे के बारे में।

मिश्री खाने के फायदे

1. खांसी को दूर करें

आमतौर पर बदलते मौसम में बच्चे सर्दी और जुकाम की जकड़न में जल्दी आ जाते हैं। खांसी से छुटकारा पाने के लिए कफ सिरप जैसे विकल्प बाजार में मौजूद है। लेकिन मिश्री एक ऐसा घरेलू उपचार है जिससे तुरंत ही खांसी से छुटकारा मिल जाता है। मिश्री में पायें जाने वाले आवश्यक पोषक तत्व कप को साफ़ करके गले को आराम देते हैं।

2. माउथ फ्रेशनर

मिश्री खाने के फायदे में एक फायदा यह हैं कि मिश्री मुंह में बैक्टीरिया को बढने नहीं देती। इसलिए मिश्री को खाने के बाद सौंफ के साथ खाया जाता है। जब आप मिश्री को सौंफ के साथ खाने के बाद खाते हो तब आपको तरोताजा महसूस होता है। यह एक अच्छा माउथ फ्रेशनर है।

3. मिश्री ताजा पेय

मिश्री में मिठास और ठंडक दोनों ही गुण पाएं जाते हैं इसलिए बहुत ज्यादा गर्मी वाले राज्य होने के कारण दक्षिण भारत में मिश्री का प्रयोग ठंडा ताजा पेय बनाने के लिए किया जाता है। मिश्री को एक गिलास पानी में मिला लें फिर इसे पी लीजिए। इसका सेवन करने से शरीर को स्फूर्ति का एहसास होता है और कुछ देर के लिए गर्मी से राहत मिलती है। क्योंकि इसमें मौजूद ग्लूकोज के रूप में शरीर को उर्जा प्रदान करता है।

4. चीनी से ज्यादा सेहतमंद

चीनी के जमें हुए कणों को ही मिश्री कहा जाता है लेकिन मिश्री चीनी से कहीं अधिक स्वास्थ्यवर्धक विकल्प है। इसलिए क्न्फेक्श्नेरी में टेबल शुगर के स्थान पर आप मिश्री का उपयोग कर सकते हैं। लालीपाप चाकलेट से लेकर स्वीट ड्रिंक जैसे स्वीट मिश्री से ही तैयार किये जाते हैं।

5. हाथों, पैरों की जलन दूर करें

हाथों, पैरों में जलन होने पर मक्खन और मिश्री को बराबर मात्रा में मिला लें फिर इसका सेवन करें। इससे आपके हाथों, पैरों की जलन दूर हो जाती है।

6. हीमोग्लोबिन को बढाएं

गर्म दूध में केसर और मिश्री मिलाकर पीने से शरीर में शक्ति और स्फूर्ति आती है। इसका नियमित रूप से सेवन करने से शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढती है साथ ही आपका शरीर सुंदर बनता है।

7. नकसीर में फायदेमंद

अगर आपको नकसीर की समस्या रहती है तो ऐसे में आपको मिश्री का सेवन जरुर करना चाहिए। नकसीर होने पर पानी के साथ मिश्री को घोलकर नियमित रूप से पीने पर नाक से खून आना बंद हो जाता है।

8. मुंह के छाले ठीक करें

अगर आपके मुंह में छाले हो जाते हैं तब ऐसे में आपको मिश्री और इलाइची को पीसकर उसका लेप बना कर मुंह के छालों पर लगाएं। इससे आपको छालों से जल्दी ही आराम मिल जाएगा।

9. गला बैठने किस समस्या से राहत दिलाएं

जब आपका गला बैठ जाता है तब सौंठ और मिश्री को बराबर मात्रा में पीसकर इसका चूर्ण बना लें। अब इस चूर्ण में शहद की कुछ बूंदे मिलाकर छोटी छोटी गोलियां बना लें। इन गोलियों को चूसने से गला ठीक हो जाएगा और गले की खराश भी दूर हो जाती है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।