गाय के गोबर के फायदे

गाय के गोबर के फायदे कैसे गाय का गोबर रोगों में बहुत लाभकारी है और कैसे सेहत के देखभाल के लिए इसका प्रयोग कर सकते हैं, cow dung health benefits in hindi

आज हम गाय के गोबर के फायदे के बारे में बात करेंगें। गाय के गोबर से हमें ऐसे फायदे प्राप्त होते हैं जिनके बारे में आपने शायद ही आपने सुना या पढ़ा होगा। यह आपकी सेहत को तो दुरुस्त करता ही है साथ ही उर्जा के संकट से भी निजात दिलाता है।

पहले समय में ऋषि मुनि देसी गाय के गोबर का सेवन करते थे क्योंकि इससे उन्हें विटामिन बी मिलता था। जिससे वो अपने आप को सेहतमंद रखते थे। अमेरिका डॉक्टर मेकफर्शन का भी कहना है कि देसी गाय के गोबर जैसा अन्य कोई कीटनाशक नहीं है।

देसी गाय में मुख्य रूप से नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटेशियम, आयरन, जिंक, मैगनीज, बोरोन, मोलिब्ल्दन्म बोरेक्स, कोबाल्ट, सल्फेट, चुना, गंधक और सोडियम जैसे रासायनिक तत्व पाएं जाते हैं। ये सभी तत्व सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।

गाय का गोबर आप कई तरह से प्रयोग में ला सकते हो जैसे गठिया, बुखार, हैजा, मिर्गी, खुजली होने पर, आग से जल जाने पर आदि में गाय का गोबर बहुत ही उपयोगी होता है। आइये विस्तार से जानते हैं गाय के गोबर के फायदे के बारे में।

गाय के गोबर के फायदे

गठिया होने पर लाभकारी

गठिया की शिकायत होने पर गाय के गोबर को उबालकर उसका लेप करने से गठिया रोग ठीक हो जाता है।

बुखार और मलेरिया में

यदि आप बुखार और मलेरिया से पीड़ित है तब आपको देसी गाय के गोबर की गंध लेनी चाहिए। इस गंध के द्वारा बुखार और मलेरिया का नाश हो जाता है।

हैजा होने पर लाभकारी

जो लोग हैजा से पीड़ित होते हैं उन्हें साफ़ पानी में गोबर को घोलकर पीना चाहिए। इससे उनका हैजा ठीक हो जाता है।

मिर्गी में लाभकारी

मिर्गी वाले मरीज को चाहिए कि सबसे पहले वो गेंहू को देसी गाय को खिला दें। जब गाय गोबर करेगी तब उसमें से जो दाने निकलेगे। उसे साफ़ करके पिसवा लें और सिर्फ 15 दिन तक उसकी रोटी का सेवन करें। आपकी मिर्गी का पूरी तरह से नाश हो जायेगा।

सांप, बिच्छु और अन्य जीवों के काटने पर

जब भी आपको सांप, बिच्छू या कोई अन्य जीव काट लेता है तब आपको चाहिए कि काटने वाले रोगी को जितना जल्दी हो सकें। गोबर का रस पिलायें और उसके शरीर पर देसी गाय के गोबर का लेप लगा दें। इससे जहर का असर कम हो जाता है।

बिजली का करंट लगने पर

कई बार बिजली का काम करते हुए या स्विच को छूने से करंट लग जाता है। शरीर के जिस भाग में करंट लगा हो उस भाग में गाय के गोबर का लेप कर लेना चाहिए। इस प्रकार करने से करंट का असर कम हो जाता है।

आग से जल जाने पर

काम करते समय कई बार शरीर का कोई अंग आग से जल जाता है। ऐसे में देसी गाय का गोबर का लेप आग से जले हुए भाग पर बार बार करना चाहिए। इससे फर्क जल्दी पड़ जाता है।

खुजली होने पर

अगर आप खुजली से परेशान है तब आपको चाहिए की आप शरीर पर देसी गाय का गोबर लगायें और बाद में गर्म पानी से नहा लें। इसके इलावा जहां पर देसी गाय गोबर करती है। उस मिटटी को भी उठाने लगाने से भी तीन से चार दिन में खुजली और त्वचा रोग से मुक्ति मिलती है।

चोट, अंदरूनी चोट और मोच होने पर फायदेमंद

चोट या अंदरूनी चोट होने पर गाय का गोबर बहुत फायदेमंद होता है। इसके लिए गाय के गोबर की दो पोटली बना लें फिर उसे तवे पर गर्म करें और पोटली को चोट पर रखकर कपड़े से बाँध लें। इस प्रकार करने से चोट जल्दी ठीक हो जाती है और आपको आराम मिलता है।

मुंह की बदबू और मसूड़ों के दर्द के लिए

देसी गाय के गोबर को सबसे पहले जला लेंष जब इसका सारा धुआं निकल जाएं तब उसमें पानी डाल कर बुझा लें। इस प्रकार करने से गोबर कोयला बन जायेगा।

इस कोयले को पीस कर कपड़े में छान लें और साथ में नमक और फिटकरी में इसमेम मिक्स कर लें। नियमित रूप से इस मंजन से अपने दांतों को साफ़ करें। इससे आपके दांतों के सारे रोग दूर हो जायेगे।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।