मेथी के फायदे

मेथी का इस्तेमाल आप सब्जी और मसाले दोनों ही रूपों में करते हो। मेथी आयुवेर्दिक दृष्टि से सेहत के लिए बेहद स्वास्थवर्धक है। आइये आपको बताते हैं मेथी खाने के फायदे और एैसे गुणों के बारे में जो शायद आप नहीं जानते। मेथी कई बीमारियों की दवा है। मेथी में पोटेशियम और विटामिन सी जैसे पोषक तत्व पाये जाते हैं। हरी सब्जियों में लोहा अधिक पाया जाता है। जो शरीर की कमजोरी को नष्ट करता है। यह खांसी, कफ, बुखार, बवासीर, टी बी जैसी खतरनाक बीमारियों की रोकथाम करती है। साथ ही मेथी के इस्तेमाल से शरीर की कमजोरी, दांतों की सड़न आदि की बीमारी दूर होती है। मेथी किस तरह से आपकी सेहत के लिए उपयोगी है आइये जानते हैं मेथी के इस्तेमाल और फायदों के बारे में।

 

 

मेथी के स्वास्थवर्धक अनोखे फायदे (Health tips)
बवासीर के रोगियों के लिए मेथी का सेवन करना लाभकारी होता है। बवासीर के रोगियों को प्रति दिन मेथी का साक खाना चाहिए। और कब्ज को दूर करने के लिए मेथी की रेशेवाली सब्जी का सेवन जरूर करें।

डायबिटीज में फायदेमंद
मेथी खून में शुगर की मात्रा को संतुलित करती है। जो लोग डायबिटीज से ग्रसित हैं वे मेथी के 5 से 6 दानों का सेवन नित्य करें।

हर्ट अटैक का रिस्क कम होता है
मेथी दानें कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखते हैं। इसलिए हार्ट अटैक के रिस्क को कम करता है। अपने भोजन में मेथी का साक या मेथी के दानों को इस्तेमाल करें। पढ़िये-पिचके हुए गालों का इलाज

बहुमूत्रता
जिन लोगों को बार-बार पेशाब जाना पड़ता हो यानि बहुमूत्रता से परेशान हो उनके लिए मेथी का सेवन लाभकारी होता है। मेथी की भाजी के 100 मि.ली रस में डेढ़ ग्राम मिश्री डालकर नित्य सेवन करने से बहुमूत्रता से छुटकारा मिल सकता है।

कृमि
छोटे बच्चों के पेट में कीड़े हो जाते हैं जिससे उन्हें कुछ भी खाया-पीया नहीं लगता है। इस रोग को आयुर्वेद में कृमि रोग कहा गया है। कृमि से परेशान बच्चों को मेथी भाजी का रस 1 से 2 चम्मच नित्य पिलाने से लाभ मिलता है।पढ़िये-बीमारी में कौन सा फल खाएं

गैस से पेट में दर्द होना
सूखी या हरी मेथी का सेवन डेली करें। यह शरीर में मौजूद 80 प्रकार के वायु रोगों को नियंत्रित करती है।

सर्दी जुकाम होने पर
कफ दोष की वजह से जिन्हें हमेशा सर्दी-जुकाम रहता है वे सरसों के तेल को गरम करके अदरक, गरम मसाला और लहसुन डालकर बनायी गई मेथी की सब्जी का सेवन नित्य करें। एैसा करने से सर्दी जुकाम से निजात मिलेगा।

हाथ पैर के दर्द में
वायु रोग के कारण हाथ और पैरों में दर्द होता है। इस दर्द से राहत पाने के लिए मेथी दानों को घी में सेंककर उसका चूर्ण बनायें एंव उसके लड्डू बनाकर प्रतिदिन एक लड्डू खाने से आपको दर्द से निजात मिलेगा।

लो ब्लड प्रेशर
यदि आप निम्न रक्तचाप से परेशान हैं तो मेथी की सब्जी में लहसुन, अदरक, और गरम मसाला डालें और नित्य सेवन करें।

सौन्दर्य की चीजें 

आप मेथी से बने हुए फेस पैक के इस्तेमाल से झुर्रियों, मुंहासे और ब्लैकहेड को खत्म कर सकते हो। मेथी के दानों को पानी में उबालकर उसे ठंडा कर लें और उससे अपना चेहरा साफ करें।

मेथी के हरे पत्तों को अच्छे से पीसकर उसका पेस्ट बना लें और इसे अपने चेहरे पर 15 मिनट तक लगाकर सूखने दें। और फिर अपना चेहरा पानी से धो लें।

दाग और सूजन 

यदि आपकी त्वचा में कोई फोड़ा हुआ हो या फिर त्वचा कहीं से जल गई हो तो आप मेथी का पेस्ट बनाएं और उसे जली हुई जगह या फोड़े पर लगाकर किसी साफ कपड़े से बांध लें। ये उपाय आपको काफी लाभ देगा।

बुखार और गले में मेथी

जब भी बुखार और गले में दर्द हो तो शहद में एक चम्मच नींबू का रस और मेथी को मिलाकर सेवन करें। आपको जल्द ही इन रोगों से राहत मिल जाएगी।

यौन क्षमता

मेथी दाने के प्रयोग से पुरूषों में यौन क्षमता बढ़ती है और ये कामच्छाओं को भी। यदि आप मसाले के रूप में मेथी का प्रयोग करते हो तो यह शक्तिवर्धक और प्राकृतिक औषधि से कम नहीं है।

थकान दूर करने में

थकान दूर करने के लिए एक चम्मच मेथी बीजों का सेवन रोज करें

शिशु की माता के लिए

मेथी में कई तरह से पौष्टिक तत्व होते हैं जो दूध पिलाने वाली मां के दूध को बढ़ाने का काम करते हैं। जिससे बच्चे को प्रयाप्त मात्रा में दूध मिलता है।

बच्चे के जन्म को आसान बनाती है

महिलाओं को शिशु के जन्म के समय होने वाली समस्या व दर्द से राहत देती है मेथी। मेथी गर्भाशय के संकुचन को बढ़ाती है जिससे बच्चे का जन्म लेना आसान हो जाता है। और यह प्रसव पीड़ा को भी कम करती है। लेकिन गर्भ के समय अधिक मेथी का सेवन भी नहीं करना चाहिए। इससे गर्भपात भी हो सकता है।

 

सीने की जलन

यदि सीने में जलन महसूस हो रही हो तो आप एक छोटी चम्मच मेथी को पानी के साथ मिलाकर पी जाएं। इस उपाय से पेट की जलन भी शांत होती है।

 

पीठ के दर्द में मेथी

यदि आप अक्सर पीठ के दर्द से परेशान रहते हैं तो मेथी को किसी न किसी रूप में खाना शुरू कर दें। इससे आपको एक महीने में ही पीठ दर्द से राहत मिलने लगेगी।

 

जलने का निशान

आग से जलने के बाद शरीर में निशान बन जाता है जो लंबे समय तक बना रहता है। ऐसे में आप मेथी के बीजों को रात में भिगों लें और सुबह इसका पेस्ट बनाकर जले हुए स्थान पर लगाएं। और थोड़ी देर सूखने के बाद पानी से धो लें। एैसा कुछ दिनों तक नियमित करें।

मोटापा कम करने के लिए       ये भी पढे -सेब की चाय पीने के फायदे

फाइबर की मात्रा अधिक होने की वजह से यह अतरिक्तकैलोरी बर्न करता है। जिस वजह से कुछ ही समय में मोटापा कम होने लता है। जो लोग मोटापे से परेशान हैं उन्हें सुबह मेथी का पानी पीना चाहिए।

कैसे बनाएं मेथी का पानी

रात को एक बड़ी चम्मच मेथी के दानों को दो गिलास पानी मे भिगोने के लिए रख दें। और सुबह इसे छानकर पीएं।

मेथी के अन्य फायदे

  • बालों पर मेथी के दानों का बना पेस्ट लगाने से बालों का झड़ना दूर हो जाता है।
  • मेथी से निकले पानी को दांतों पर रगड़ने से दांत पक्के और मजबूत बनते हैं।
  • मधुमेह और दिल की बीमारी से परेशान लोगों को मेथी की सब्जी में प्याज डालकर खाना चाहिए।
  • मेथी खाने से बुखार, कफ और पेट की गैस खत्म होती है।
  • आंवला, रीठा के छिलके, काली मिट्टी, मेथी दाना, शीकाकाई व भांगरे के मिश्रण का बालों पर लेप लगाएं और 2 घंटे के बाद पानी से धो लें। एैसा करने से बाल चिकने, काले और मुलायम बनते हैं।
  • मेथी के पाउडर को दूध के साथ लेने से मधुमेह ठीक होने लगता है।
  • कान दर्द, लकवा और मिर्गी में मेथी काढे का सेवन करने से फायदा मिलता है।
  • एक कप पानी में 2 चम्मच मेथी को उबालकर पीने से पेट के छाले और आंतों की सफाई हो जाती है।

मेथी खून को साफ करती है साथ ही वायुरोग, कमर दर्द आदि में राहत देती है। मेथी बच्चे की मां के दूध को भी बढ़ाती है। मेथी, खाने की अरूचि, खांसी, उल्टी आदि में भी राहत देती है।

सावधानी
मेथी गर्म होती है इसलिए अत्याधिक इसका सेवन न करें। यह पित्त को बढ़ाती है। जो लोग पेशाब में खून, मासिक धर्म और खूनी बवासीर से परेशान हों वे लोग मेथी का सेवन न करें।

 

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।