बरगद के पेड़ के फायदे – सेहत और सौंदर्य के लिए

जाने बरगद के पेड़ के फायदे आपकी सेहत और सौंदर्य के लिए क्यूंकि यह नकसीर, आँखों, त्वचा, बवासीर, दांतो, जोड़ों के दर्द आदि के लिए बहुत फायदा करता है, Banyan tree benefits in hindi

बरगद का पेड़ की भारतीय भूमि पर एक अहम भूमिका होती है। बरगद के पेड़ को हिन्दू संस्कृति में बहुत ही पवित्र माना जाता है। भारत की महिलाएं वट सवित्री के दिन बरगद के पेड़ की पूजा करती है। बरगद का पेड़ अर्थात वट का पेड़ हिन्दू धर्म में तीन देवताओं का प्रतीक होता है।

ब्रह्मा जी इस पेड़ की जड़े होती है बिष्णु भगवान जी इसकी छाल और शिव इसकी शाखाएं इस प्रकार भी माना जाता है कि रविवार के दिन इस वृक्ष में लक्ष्मी जी भी आती है। बरगद का पेड़ बहुत ही गुणकारी होता है इसलिए आज हम बरगद के पेड़ के फायदे के बारे में जानकारी प्राप्त करेगें।

बरगद का पेड़ विशाल छाया प्रदान करता है इसलिए पुराने समय में बनिया अर्थात हिन्दू व्यापारी इसकी पूजा करते थे और इसके नीचे बैठ कर व्यापार करते थे। इतना ही नहीं बरगद का पेड़ सेहत के लिए भी बहुत गुणकारी होता है।

इसमें बहुत से औषधीय गुण पाएं जाते हैं जैसे यह मसूड़ों के लिए, त्वचा के लिए, बालों, नकसीर के लिए, झाइयों को दूर करने लिए, दस्त, फटी एडियों के लिए आदि के लिए बहुत फायदेमंद होता है। आइये विस्तार से जानते हैं बरगद के पेड़ के फायदों के बारे में।

बरगद के पेड़ के फायदे – सेहत और सौंदर्य के लिए

नकसीर की परेशानी होने पर

नकसीर की परेशानी होने पर ध्रुवी गास, बरगद के पत्ते और शहद का मिश्रण तैयार करें। फिर इसका इस्तेमाल नियमित रूप से करें। इससे आपको नकसीर की समस्या से राहत मिलेगी।

झाइयों को दूर करें

झाइयों को दूर करने के लिए बरगद की पत्तियों और नारियल के गुदे को लें और इसका पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट को झाइयों पर लगायें इससे झाइयां दूर हो जाएगी। इसी प्रकार बरगद और मसूर की दाल से भी फ्लेक्स हट जाते हैं और त्वचा चमकने लगती है

आँखों के लिए

आँखों की रोशनी के लिए कपूर के पाउडर को बरगद के दूध में अच्छे से मिला लें। अब इस मिश्रण को आँखों पर मरहम की तरह लगाएं। इसके इलावा आप एक लौंग को पीस कर बरगद के दूध में अच्छे से मिक्स करें और इसे अपनी आँखों पर लगाएं। इससे आँखों की रोशनी आच्छी हो जाती है।

बवासीर में लाभकारी

खूनी बवासीर को दूर करने के लिए एक गिलास दूध में बरगद के दूध की कुछ बुँदे मिलाएं फिर इसका सेवन करें। जब आप इसका नियमित रूप से सेवन करते हो तब कुछ ही समय में आपको फर्क नजर आने लगेगा।

दांतों के लिए लाभकारी

बरगद के पेड़ की कुछ पत्तियाँ या शाखा को तोड़े इससे दुधिया या अर्क इकट्ठा करें। इसके बाद इस में शहद को अच्छे से मिलाकर अपने मसूड़ों पर लगाएं और कम से कम दस मिनट के बाद कुरला कर लें। आप अपने मुंह की सफाई के लिए बरगद की जड़ों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके लिए बरगद की कोमल जड़ों को लेकर टूथब्रश की तरह इस्तेमाल करें। इसके इलावा अगर आप सांस की बदबू से परेशान है तो इसके लिए एक कप पानी में बरगद की छाल को उबालें और इस पानी के द्वारा लगातार गरारे करें।

जोड़ों की दर्द के लिए

जोड़ों की दर्द और सुजन को दूर करने के लिए सबसे पहले बरगद की पत्तियों पर तिल का तेल लगाएं। इसके बाद पत्तियों को गर्म करके प्रभावित क्षेत्र पर लगा दें। इसके इलावा गठिया से राहत पाने के लिए आप बरगद के दूध से मालिश कर सकते हैं।

फटी एडियों के लिए

अपने पैरों को कोमल बनाने के लिए आवश्यक है कि आपकी एडिया फटी हुई न हो। अगर आपकी एडिया फटी हुई है तो फटी हुई एडियो में बरगद का पेड़ का दूध डालें। कुछ ही समय में आपने पैर कोमल हो जायेगे।

दस्त में लाभकारी

जब भी आपको दस्त हो तब बरगद के पेड़ की जड़ों को लें और उसे अच्छे से पीस लें। इसके बाद इसका सेवन छाछ के साथ करें। इसके इलावा दस्त से राहत पाने के लिए रात के समय बरगद की पत्तियों को भिगो लें और अगली सुबह इसके पानी का सेवन करें। आपको फर्क खुद ही नजर आने लगेगा।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।