बच्चों पर मोबाइल और टेबलेट से होने वाले दुष्प्रभाव

जाने मोबाइल के नुकसान बच्चों के लिए क्यूंकि इसका बच्चों के सेहत पर विपरीत प्रभाव पड़ता है, mobile phone side effects on children health in hindi

पिछले कुछ समय में टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन के हर एक पहलू को बहुत ही प्रभावित किया है। साथ ही हमारे जीवन को बहुत ही कंफर्टेबल बनाया है । मोबाइल सेलफोन, टेबलेट और स्मार्ट फ़ोन जैसे डिवाइज की अगर हम बात करे तो छोटे बच्चों में तकनीक की एक्सेसिबिलिटी और उपयोग को बहुत ही बढ़ा दिया है।

हमेशा बच्चों को कठोर सुपर वीजन के तहद ही मोबाइल, टेबलेट और स्मार्ट फोन का उपयोग ही करने देना चाहिए। बच्चों के निजी उपयोग के लिए तो फ़ोन बिल्कुल ही नहीं देना चाहिए।

इस बिषय के बारे में अनेक रिसर्चो के बाद इस बारे में पता चला है कि टेक्नोलॉजी बच्चों को फायदा पहुँचाने की बजाय लांग टर्म में नुकसान पहुंचा रही है। फिर भी माता पिता बच्चों को इसका उपयोग करने को दे रहे हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि इसके उपयोग से बच्चे स्मार्ट बन रहे हैं और वो बिजी रहते हैं।

आज के समय में लोग नवजात शिशुओं और टोडलर्स तक के पास भी इस डिवाइस को रखने लगे हैं। जिसके कारण बच्चों के विकास, व्यवहार और उनके सिखने की क्षमता पूरी तरह से प्रभावित हो रही है। आइये विस्तार से जाने बच्चों पर मोबाइल और टेबलेट से होने दुष्प्रभाव के बारे में।

विकास का धीमा होना

आज के समय में हमारे पास कुछ ऐसी टेक्नोलॉजी है जो बच्चों के विकास को सिमित कर देती है। जिसके कारण उसका शारीरिक विकास पिछड़ सकता है। जब बच्चा फिजिकल एक्टिविटी करता है तब बच्चा फोकस करना सीखता है और नई स्किल्स डेवलप करते हैं। लेकिन अगर आपका बच्चा बारह साल की कम उम्र का हैं तो उसका टेक्नोलॉजी में दखल देना उसके विकास व् शेक्षणिक प्रगति के लिए हानिकारक सिद्द होता है।

मोटापा बढ़ना

जो बच्चें यह डिवाइसेज अपने कमरे में ही बैठ कर उपयोग करते हैं। उनमे मोटे होने का रिस्क 30 प्रतिशत तक अधिक पाया जाता है। मोटे बच्चों में भी 30 प्रतिशत को डायबिटीज होने का और दिल के दौरे का खतरा बढ़ जाता है। यह खतरे उनकी लाइफ एक्स्पेक्टेंसी को कम करते हैं।

नींद में कमी का होना

जाने नींद ज्यादा आने के कारण और कैसे रहें अपनी सेहत को लेकर सतर्क क्यूंकि नींद का सेहत से गहरा नाता है, reasons of more sleep in hindi

लगभग 60 प्रतिशत माता पिता अपने बच्चों के टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल की निगरानी नहीं करते और लगभग  75 प्रतिशत लोग अपने बच्चों को बेडरूम में ही टेक्नोलॉजी इस्तेमाल करने की छुट दे देते हैं। नौ से दस साल की उम्र के इन बच्चों की नींद टेक्नोलॉजी के दखल के कारण प्रभावित हो रही है। जिसके कारण बच्चों की स्टडीज प्रभावित होती है।

मानसिक रोग

अगर बच्चें टेक्नोलॉजी का अनियंत्रित उपयोग से बच्चों में डिप्रेशन, एंजाइंटी, अटेचमेंट डिसार्ड, ध्यान का नहीं लगना, आटिज्म, बाइपोलर जैसी समस्याएँ उनमे बढ़ सकती है। इसलिए जितना हो सकें बच्चों को मोबाइल जैसी वस्तुओं से दूर रखना चाहिए।

आक्रामकता

आक्रामकता मीडिया, टीवी, फिल्मों और गेम्स में हिंसा बहुत अधिक दिखाई देता है। जिसके कारण बचों में आक्रामकता बहुत बढ़ जाती है। आजकल छोटे  बच्चे शारीरिक और लैंगिक हिंसा के प्रोग्राम और गेम्स के संपर्क में आ जाते हैं। जिसमें हत्या, बलात्कार और टार्चर के दृश्य की भरमार होती है। मिडिया में दिखाई देने वाला हिंसा अमेरिका में पब्लिक हेल्थ रिस्क की क्षेणी में रखा जाता है क्योंकि यह बच्चों के विकास को विकृत करती है।

लत लगना

जिस समय माता पिता अपने स्वय के किसी काम में खोये रहते है तब वे अपने बच्चों से भावनात्मक आधार पर दूर होने लगते हैं। बच्चों के बेहतर विकास के लिए जरूरी होता है कि माता पिता अपने बच्चों को समय दें। जिस समय बच्चे अपने माता पिता की कमी को महसूस करते हैं तब वह टेक्नोलॉजी व इन्फार्मेशन के भाव में पूरी तरह से खो जाते हैं और यहीं उनकी लत बन जाती है। टेक्नोलॉजी का भरपूर इस्तेमाल करने वाले लगभग 10 प्रतिशत बच्चे इसकी लत का शिकार बन गये हैं।

रेडिएशन का खतरा

टोरंटो विश्वविद्यालय के स्कूल आफ पब्लिक हेल्थ के डॉ. एंथोनी मिलर ने अपनी रिसर्च में बताया कि रेडियो फ्रेक्वेंसी एक्सपोजर के आधार पर 2B कैटेगरी को नहीं बल्कि 2A कैटेगरी को कैंसर कारक मानना चाहिए। लेकिन टेक्नोलॉजी को हद से ज्यादा इस्तेमाल करने वाले बच्चों का भविष्य धूमिल है।

आँखों पर दबाव

 

मोबाइल फोन हो या इसी प्रकार का कोई गैजेट्स इसका दुष्प्रभाव सबसे पहले बच्चों की आँखों पर देखने को मिलता है। इसका कारण यह है कि वे बैकलित स्क्रीन को घंटों तक देखते रहते हैं और अपनी पलको को भी नहीं झपकते। अगर आप अपने बच्चों की भलाई चाहते हो तो आधे घंटे से उपर उन्हें किसी भी स्क्रीन को नहीं देखने देना चाहिए और जितना हो सकें उन्हें मोबाइल से दूर रखना चाहिए।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।