बच्चों को कैविटी से कैसे बचाएं

बच्चों को कैविटी से कैसे बचाएं ताकि आप कर सकें बच्चों के दांतों की देखभाल, child dental care tips in hindi

दोस्तों, आज हम बात करेंगें कि बच्चों को कैविटी से कैसे बचाएं। हम देखते हैं कि बच्चों को मिठाई और चाकलेट बहुत ही पसंद होती है। जिसके कारण उनके दांतों को कैविटी से गुजरना पड़ता है। खराब मौखिक स्व्च्छता कैविटी की समस्या को और बढ़ा देता है।

अगर आप चाहते है कि आपके बच्चे इस समस्या से बचे रहें तो कुछ घरेलू उपाय करके उन्हें कैविटी से आप दूर रख सकते हैं जैसे बच्चों क ब्रश करवाना, किशमिश का उपयोग, चीज का सेवन आदि। तो आइये विस्तार से जानते हैं बच्चों को कैविटी से कैसे बचाएं।

बच्चों को कैविटी से कैसे बचाएं

1. खाने के बाद ब्रश

अपने बच्चों को खाना खाने के बाद की शिक्षा देनी चाहिए। जब बच्चे ब्रश करते है तब उनके दांत में से फंसे हुए खाद्य पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। जिससे वो कैविटी की समस्या से बच जाते हैं अगर वो ब्रश नहीं करते तब उनके दांत में फंसे खाद्य पदार्थ सड़ने लगते हैं। जिससे उन्हें कैविटी से गुजरना पड़ता है।

2. फ्लोराइड का प्रयोग

अपने बच्चों को फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का प्रयोग करवाएं। क्योंकि यह एक आवश्यक खनिज होता है जो दांत को मजबूत करता है साथ ही यह दांत के क्षय को भी रोकता है। फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का नियमित उपयोग करने से बच्चों के दांत कैविटी से बचे रहते हैं।

3. च्युइंगम का प्रयोग

बच्चों को कैविटी से बचाने के लिए शक्कर रहित च्युइंगम दें। क्योंकि शक्कर रहित च्युइंगम लार में वृद्दि करती है और भोजन के बाद छोटे हुए एसिड को यह हटाती है।

4. चीज का सेवन

चीज दांतों को कैविटी से सुरक्षित रखता है क्योंकि चीज कैल्शियम और कैसीइन से समृद्द होता है।

5. शक्कर युक्त पेय से दुरी

इस बात को तो सभी जानते हैं कि बच्चों को शक्कर युक्त पेय बहुत ही पसंद होते हैं। जिससे बच्चों को कैविटी से गुजरना पड़ता है। इसलिए जरूरी है कि बच्चें को शक्कर युक्त पेय से दूर रखें। अगर वो कभी कभी इसका सेवन करते हैं तो उन्हें स्ट्राक से पीने को कहें इससे वो कैविटी से बचे रहेगें।

6. फ्लासिंग का प्रयोग

फ्लासिंग का उपयोग अक्सर दांतों से गंदगी को हटाने के लिए किया जाता है। जब दांतों में गंदगी फंस जाती है तब दांतों में सडन और कैविटी की समस्या पैदा हो जाती है। ऐसे में बच्चों के दांतों की स्वच्छता के लिए फ्लासिंग बहुत ही जरूरी है।

7. किशमिश का सेवन

बच्चों को कैविटी से छुटकारा दिलाने के लिए कम मात्रा में किशमिश दें। क्योंकि किशमिश में पालीफेलोन और फ्लैनोनोइड पाएं जाते हैं। लेकिन जब आप इसका आवश्यकता से अधिक मात्रा में सेवन करते हो तो इसका असर उल्टा हो जाता है। इसलिए इसका सेवन नियमित मात्रा में ही करना चाहिए।

8. सिलंट का प्रयोग

सिलंट एक प्रकार की प्लास्टिक कोंटिग होती है जो स्थाई दांतों के चबाने वाली सतह पर की जाती है। इससे दांतों पर अतिरिक्त परत प्रदान की जाती है जो दांतों को कैविटी से बचाती है।

9. चिकित्सा का परामर्श

भले ही इसकी आवश्यकता कम पडती है फिर भी बच्चों की मौखिक स्व्च्छता बनाए रखने के लिए दंत चिकित्सा की सलाह अवश्य लेनी चाहिए। क्योंकि बची हुई गंदगी समय के साथ ठोस रूप ले लेती है जो ब्रश द्वारा भी नहीं हटाई जाती।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।