बच्चों की नाखून चबाने की आदत से कैसे छुटकारा पाएं

बच्चों की नाखून चबाने की बुरी आदत से कैसे छुटकारा पाने के आसान घरेलू उपाय ताकि आप कर सकें बच्चों की देखभाल, child care tips in hindi

बच्चों की नाख़ून चबाने की आदत से कैसे छुटकारा पाएं आज हम इस बारे में आपको बतायेंगें। नाख़ून चबाना अच्छी बात नहीं है बल्कि यह सेहत के लिए हानिकारक सिद्द हो सकता है। नाख़ून चबाने की आदत बच्चों में ही नहीं बल्कि वयस्कों में भी देखी जा सकती है।

लेकिन आज हम बच्चों के बारे में बात करेंगें। बढ़ते हुए बच्चे में नाख़ून चबाने की आदत के कई कारण हो सकते हैं। इसके साथ ही यह बात भी स्पष्ट है कि यह एक खतरनाक आदत हो सकती है क्योंकि उँगलियों और नाख़ून में लगी हुई गंदगी और मैल से इन्फेक्शन का खतरा बना रहता है जो बड़ी और गंभीर बिमारी का प्रमुख कारण होता है।

बहुत से ऐसे बच्चे होते है जो चिंता और तनाव की स्तिथि में अपने नाखुनो को चबाते हैं तो कुछ बच्चे जब बोर हो रहे होते हैं तो समय काटने के लिहाज से अपने नाखूनों को चबाने लगते हैं। अगर आपने कभी गौर किया हो तो छोटे बच्चों में यह आदत नहीं पाई जाती।

लेकिन जब बच्चा बड़ा होने लगता है और दुनिया को जानने लगता है तब उसे भी विचार आने लगते हैं और उसके सोचने की प्रक्रिया तेज होने लगती है। सोचने की प्रक्रिया और किसी बिषय के बारे में दिमागी चिंता नाख़ून चबाने में अभिव्यक्त हो जाती है।

कई बार बच्चे की इस आदत के जिम्मेदार उसके माता पिता भी होते हैं जो बच्चे की आदत को शुरू में ही नहीं टोकते। चलिए जानते हैं बच्चों की नाख़ून चबाने की आदत से कैसे छुटकारा पाएं।

नाखून चबाने की आदत से कैसे छुटकारा पाएं ?

बच्चों को थोडा स्पेस दें

कुछ माता पिता ऐसे होते हैं जो बच्चों  के पीछे हर समय रोक टोक करते रहते हैं। उनका बच्चा जो भी कर रहा हो उसमें वो दखलंदाजी जरुर करते हैं  अगर बच्चे को नाख़ून चबाने की आदत है तो सबसे पहले माता पिता को चाहिए कि वो अपनी इस आदत को बदल दें। क्योंकि यदि बच्चा पहले ही चिंता में हो और उपर से माता पिता ज्यादा दखलंदाजी करें। तब उसका परिणाम बच्चे के नाख़ून चबाने के रूप में सामने आता है।

बच्चों को जागरूक करें

प्रत्येक बच्चे के लिए जानकारी और उस विषय के बारे में आवश्यक ज्ञान जरुरी है। यदि आप अपने बच्चे को किसी बात के प्रति सचेत करना चाहते हैं तो उस बिषय से जुडी सभी सकारात्मक और नकारात्मक बातों पर खुलकर बात करें। जैसे ही बच्चा दांतों से नाख़ून चबाने की शुरुआत करता है तभी माता पिता को उसे सचेत करना शुरू कर देना चाहिए। इसके लिए बच्चे को बार बार बोल कर समझाने की आवश्यकता नहीं होती। अगर आप चाहे तो उसे आँखों के इशारे या फिर किसी कोड वर्ड के द्वारा उसे समझा सकते हैं। बच्चों की देखभाल – ना दें यह घरेलू उपचार

बच्चों की नाख़ून चबाने की आदत को खोजें

आपने वयस्कों को देखा होगा कि किसी बुरी लत जैसे सिगरेट आदि से छुटकारा पाने के लिए सिगरेट के स्थान पर किसी अन्य वस्तु का इस्तेमाल विकल्प के रूप में करते हैं। उसी प्रकार बच्चों की नाख़ून चबाने की आदत के स्थान पर कोई विकल्प दें जैसे गुस्सा और तनाव को कम करने के लिए मुट्ठी बंद करने और खोलने की एक्सरसाइज करने को कहें।

शुरुआत में ही नाख़ून चबाने की आदत को रोकें

बच्चों का दांतों से नाख़ून का चबाना एक बहुत ही सामान्य सी दिखने वाली बात होती है। लेकिन कुछ ही समय में यह आदत एक समस्या का रूप ले लेती है जब आप देखें कि बच्चा इस आदत को लगातार अपना रहा है तो शुरू में ही उसकी इस आदत को रोक दें। क्योंकि शुरू में ही जब बच्चे को आप थोडा डांट कर या प्यार से समझाते हो तब बच्चा जल्द ही समझ जाता है।

बच्चों के हाथों को व्यस्त रखें

नाख़ून चबाने की आदत बच्चों में तब अधिक बढ़ जाती है जब बच्चों को अपने हाथों को पूरी तरह आजाद रखने का समय मिलता रहे। बच्चों की इस आदत को रोकने के लिए बच्चों के हाथों को व्यस्थ रखने की कोशिश करें। अगर आप सोचते हो कि बच्चों को किस प्रकार से व्यस्थ रखें तो इसके लिए उसको फेवरेट खिलौने दें। जिससे बच्चा उसमें व्यस्थ रहें और नाख़ून चबाने की आदत को भूल जाएं।

जबरदस्ती न करें

बच्चों में इस बात को देखा गया है कि बच्चों को जिस बात के लिए मना करें उस बात को वो आवश्य करते हैं। इसलिए बार बार एक ही बात को न दोहराएं, न ही उस बात के लिए मना करें। इस बात को ध्यान में रखें कि किसी आदत को आप डांट डपट कर रोक नहीं सकते। इसके लिए आप उसे प्यार और पर्याप्त सम्मान के साथ नाख़ून चबाने की दुष्परिणामों को बताएं और उसे नाख़ून न चबाने की सलाह दें।

दोस्त बनकर मदद करें

बच्चों की नाख़ून चबाने की आदत के प्रति सचेत करते रहने की जगह एक दोस्त बनाकर बच्चे की सहायता करने की कोशिश करे। बच्चों में यह मानसिकता होती है कि वे अपने उम्र के बच्चों या दोस्त की बात को गंभीरता से लेते हैं।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।