बच्चों की कब्ज दूर करने के उपाय

बच्चों की कब्ज दूर करने के उपाय

अक्सर छोटे बच्चों में कब्ज की परेशानी पाई जाती हैं और जब आपका बच्चा कब्ज की समस्या से झुलस रहा होता है। तब उसे बहुत ही परेशानी होती है ऐसे में आप हर वो प्रयास करते हैं जिससे आपके बच्चे को आराम पहुंचें। लेकिन आपकी लाख कोशिशों के बाद भी आपके बच्चे को कब्ज से छुटकारा नहीं  मिलता।

जिससे बच्चे के साथ साथ आप भी परेशान हो जाते हैं। आपकी इसी परेशानी को दूर करने के लिए आज हम आपको बच्चों की कब्ज दूर करने के उपाय के बारे में जानकारी देंगें। जिसे पढ़कर आप अपने बच्चे की कब्ज की परेशानी को आसानी से दूर कर सकेगें। आइये जानते हैं बच्चों की कब्ज दूर करने के उपाय के बारे में।

पानी का भरपूर सेवन

जाने पानी कब, कितना और कैसे पियें ताकि आपके शरीर में पानी की कमी भी न हो और पानी से कोई नुकसान भी न हो

इस बात में कोई आशंका नहीं हैं कि शिशु हो या व्यस्क जितना अधिक पानी का सेवन करते हैं। उतनी ही जल्दी उन्हें कब्ज से छुटकारा मिलता है। अगर आपका बच्चा छ: महीने से बढ़ा है तो उसे निर्धारित मात्रा में पानी का सेवन करवाएं। जब आपका बच्चा पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड होता है तब वह कब्ज की शिकायत से दूर रहता है।

फार्मूला मिल्क बदल कर देखें

बच्चों में कब्ज का एक मुख्य कारण फार्मूला मिल्क भी होता है। कई बार शिशु को दिया जाने वाला फार्मूला मिल्क के अनुकूल प्रतिक्रिया देता है और कई बार प्रतिकूल अगर फार्मूला मिल्क देने के बाद आपके बच्चे को कब्ज रहती है। तब आप उसका फार्मूला मिल्क बदल दें। अगर उसकी समस्या का कारण यहीं हैं तो आपके शिशु को राहत जरुर मिलेगी।

आहार को प्यूरी के रूप में दें

भूख बढ़ाने के घरेलू उपाय और तरीके ताकि आप रहें स्वस्थ, bhukh badhane ke ghrelu upay aur tarike in hindi taki ap rahen swasth

जब शिशुओं को ठोस आहार दिया जाता है तब उसे चबा पाना उनके लिए मुश्किल होता है। इसी कारण से वो आहार अच्छी तरह से नहीं पचता। अगर आप अपने बच्चे को ठोस आहार देते हो तो उसे शुरुआत में आहार प्यूरी के रूप में दें। इससे उसका भोजन जल्दी से पच पायेगा और उसे कब्ज की समस्या भी नहीं होगी। इसके साथ ही अगर फलों और सब्जियों को प्यूरी के रूप में देंगें। तब बच्चे को पर्याप्त मात्रा में फाइबर भी मिलेगा।

ग्लिसरीन सपोसिटरी का उपयोग

बच्चों की कब्ज का अंतिम उपाय ग्लिसरीन का बुलेट के आकर का कैप्सूल है। इसको शौच के स्थान में डाला जाता है। इससे बच्चे की शौच आसानी से बाहर आ जाती हैं। जिससे बच्चे को परेशानी नहीं होती क्योंकि कैप्सूल की वजह से उनके शौच का स्थान नर्म और चिकना हो जाता है। इसका उपयोग डॉक्टर की सलाह लेकर ही करना चाहिए। क्योंकि इसका उपयोग एक निधारित उम्र के बाद ही किया जाता है। इसके प्रयोग करने के आधे घंटे बाद ही बच्चा शौच कर लेता है।

पेट की मसाज

कब्ज से राहत पाने के लिए पेट की मसाज बहुत ही लाभकारी होती है। धीरे से अपने बच्चे को पेट के बल लेटा दें। फिर अपने हाथों पर थोडा सा नारियल तेल लें और उसके पेट पर लगाएं फिर उसके पेट पर घड़ी की गति में मालिश करें। ध्यान रहें उसके पेट पर अधिक दबाव न पड़े।

अपने बच्चे को एक रिहाइड्रेट रखें

जब बच्चे को कब्ज हो जाती है तब उसे हाइड्रेटेड रखने के लिए जो भी जरूरी है वो सब कुछ करें कब्ज से निजात दिलाने के लिए आप अपने बच्चे को ओ.आर.एस भी दे सकते हैं। यह बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाता है। लेकिन इसको देने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।