प्लास्टिक की बोतल में शिुशु को दुध न दें

शिशु के बढ़ते ही उसे दूध पिलाने के तरीके भी बदल जाते हैं। बच्चे को दूध पिलाने के लिए आजकल लोग प्लास्टिक वाली बातलों को इस्तेमाल करते हैं। यह आसानी से बाजार में मिल जाती है। वैसे बाजार में कांच और स्टील की बोतल भी मिलती हैं। लेकिन प्लास्टिक की बोतल बेहद सस्ती भी होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं प्लास्टिक की बोतल से बच्चे को दूध पिलाना कितना खतरनाक हो सकता है। वैदिक वाटिका आपको बताएगी क्यों दूर रखें अपने बच्चों को इन प्लास्टिक की बोतलों से।

प्लास्टिक की बोतल में दूध देना क्यों खतरनाक है?
जब प्लास्टिक बोतल में गर्म दूध डाला जाता है तब बोतल के प्लास्टिक में मौजूद रसायनिक द्रव्य दूध के साथ मिल जाते हैं जो सीधे बच्चे के शरीर को नुकसान  पहुंचा सकते हैं जिसकी वजह से बच्चे के वजन में भी कमी आ सकती है।

प्लास्टिक की बोतल में बच्चे को दूध देने से आप उसे भविष्य के लिए कमजोर बना देते हो। इन प्लास्टिक की बोतलों में मौजूद कैमिकल्स बच्चे के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को खत्म कर देते हैं जिससे वह आसानी से कई बीमारियों का शिकार हो सकता है।

अब ये सवाल आता है कि कौन सी बोतल में बच्चे को दूध दें। जहां तक बात करें प्लास्टिक की बोतल का इसमें बिस्फेनाल रसायन होता है जो बच्चे के दिमाग को कमजोर बना देता है और भविष्य में उसकी प्रजनन क्षमता को भी बिगाड़ सकता है। और वहीं यदि बात करें कांच के बोतल की तो यह आपके शिशु के लिए लाभदायक होती है। कांच की बोतल में किसी भी तरह का रसायन नहीं होता है और ना ही किसी पेट्रोलियम उत्पादन का उपयोग होता है। कांच की बोतलों में गरम दूध डालने से किसी भी तरह का कोई खतरा नहीं होता है। बस इनका ध्यान सावधानी से रखना चाहिए। कांच की बोतल में लंबे समय तक आप दूध को गर्म करके रख सकते हो।

कांच की बोतलों का जहां तक सेहत के लिए अच्छे फायदे हैं वहीं इसके थोड़े नुकसान भी हैं। कांच की बोतल आसानी से टूट जाती है। दूसरा यह बोतल बेहद मंहगी भी होती है।
अब आपको इस बात को तय करना है कि प्लास्टिक की बोतल आपके शिशु के लिए अच्छी है या कांच की बोतल। सेहत के साथ समझौता न करें अपने बच्चे के लिए सही विकल्प चुनें ताकि वह भविष्य में बीमारीयों से बचा रह सके।
READ: बच्चों के दांत निकलना – सावधानियां और जानकारी

READ: बच्चे को स्तनपान केसे कराये

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।