वास्तु टिप्स – घर की दीवारों के रंग के लिए

आप हर साल या शुभ कामों के लिए घरों की सजवाट के लिए दीवारों पर पेंट व पुताई करते हो। अक्सर देखा जाता है कि हम घर की दीवारों के रंग को लेकर परेशान रहते हैं। जैसे लीविंग रूम का रंग कैसा होना चाहिए। किचन में कौना सा रंग अच्छा रहेगा आदि। यदि आप वास्तु शास्त्र के अनुसार बताए गए रंगों को अपने घर में करवाते हैं तो इससे आपको बेहद फायदा और किन रंगों का चुनना है इसकी समस्या भी दूर हो जाएगी। वैदिक वाटिका आपको बता रही है घर में कौन सा रंग करना चाहिए।

  • प्रवेश रूम यानि घर के पहले कमरे में नीला रंग, गुलाबी रंग या फिर हल्का हरा रंग करवाना चाहिए। इससे घर में सकारात्मक उर्जा आती है।
  • जिस रूम या कमरे में आप बैठते हैं उसका रंग हरे रंग, पीला रंग, भूरा रंग या मटमैला रंग करवा सकते हैं।
  • जिस कमरे में आप भोजन करते हैं वास्तु के अनुसार इस कमरे का रंग हल्का सा गुलाबी, नीला या फिर हरा रंग का होना चाहिए।
  • किचन का रंग सफेद रंग, लाइट कलर, नीला या हल्का गुलाबी के अलावा हरा रंग भी करवा सकते हैं।

बच्चों के कमरे का रंग
बच्चों के रूम के लिए कमरे में काला, हल्का हरा और नीला रंग बहुत ही शुभ होता है।

शयन कक्ष
जिस कमरे में आप सोते हैं यानि कि बेडरूम में गुलाबी, हरा रंग, हल्का रंग या नीला रंग भी करवा सकते हैं।

बाथरूम और टाॅयलेट का रंग
नहाने वाले कमरे यानि कि आपके बाथरूम का रंग सिलेटी, काला, गुलाबी और सफेद होना चाहिए।

पढ़ने का कक्ष
पढ़ने वाले कमरे का रंग हल्का भूरा, गुलाबी, लाल या नीला होना चाहिए।

पूजा का कक्ष
पूजा वाले कक्ष में लाल रंग, गुलाबी रंग और हरा रंग शुभ माना जाता है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।