वास्तु शास्त्र के अनुसार ये पेड़ घर के पास नहीं होने चाहिए

dhan-aur-shanti-ka-nuksan-hota-hai-agar-ghar-me-hoti-hain-yeh-chezen

वास्तु शास्त्र में घर व घर के आसपास मौजूद हर चीज का विशेष महत्व है। आपके घर के आस पास पेड़ व पौधे भी वास्तु शास्त्र के अनुसार शुभ व अशुभ होते हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं एैसे पेड़ों के बारे में जो घर के आस पास नहीं होने चाहिए।

वास्तु शास्त्र:  एैसे पेड़ घर के पास नहीं होने चाहिए

आधा जला पेड़
वास्तु शास्त्र के अनुसार आधा सूखा हुआ पेड़ या आधा जला हुआ पेड, तीन सिरों वाला पेड़ व ठूंठ का पेड़ आपके घर के पास नहीं होना चाहिए। क्योंकि एैसी चीजें घर के अंदर नकारात्मक चीजें लाती हैं। यही नहीं बुरी हवाएं भी घर में आसानी से प्रवेश कर जाती हैं।

मेहंदी व इमली का पेड़ 
यदि आपके घर के पास या मुंह के आगे मेहंदी या इमली का पेड़ है तो यह भी वास्तु शास्त्र के अनुसार अशुभ माना जाता है। क्योंकि एैसे पेड़ों में बुरी आत्माएं वास करती हैं। घर के लान व घर के नजदीक में इन पेडों को ना लगाएं।

उंचे पेड़
आपके घर के आंगन या आस पास या ईशान और पूर्व दिशा में अधिक उंचे पेड़ नहीं होने चाहिए। एैसे पेड़ भी घर के के लिए शुभ नहीं होते हैं।

कुछ विशेष पेड़
वास्तु शास्त्र के अनुसार आपके घर के पास व आंगन में रेशम व कपास के पेड़, आंवला व ताड़ का पेड़ भी नहीं होना चाहिए। इन पेड़ों से के होने से घर के अंदर कलाह होता है। और परविार में लोगों की आपस में बनती भी नहीं है।

वास्तु उपाय
लेकिन यदि आपके घर के आस पास इस तरह के पेड़ हैं तो आप उन्हें कटवा या हटवा तो नहीं सकते हैं लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार कुछ उपायों से आप इन से होने वाले अशुभ फलों के प्रभाव से मुक्त हो सकते हैं। इसके लिए आप इन पेड़ व पौधों के पास व बीच में नीम, तुलसी का पेड़, अशोक का पेड़, नागकेसर का पौधा, हल्दी व रात की रानी के अलावा चंदन आदि का पेड़ लगाएं।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।