वास्तुदोष व उपाय

वास्तुदोष व उपाय

कई बार आप अक्सर सुनते है कि पैसा आता है लेकिन टिकता नहीं है। एैसे में क्या करें। कितना भी प्रयास करने के बाद यदि धन नहीं रूक रहा हो या व्यर्थ जा रहा हो तो इसका एक मुख्य कारण वास्तुदोष भी हो सकता है। जिसे हम आसानी से नजरअंदाज कर देते हैं। वैदिक वाटिका आपको बता रही है उन वास्तुदोषों के कारणों को जिनसे आर्थिक नुकसान होता है।

धन रखने की दिशा 

घर पर जिस जगह आप धन रखते हैं। वो जगह या तिजोरी का मुंह उत्तर की ओर रखें। उतर की ओर रखने से धन में लाभ होता है और पैसा घर में टिका रहता है। धन रखने की जगह दक्षिण की तरफ नहीं होनी चाहिए।

घातु की चीजें
जिस कक्ष या कमरे में आप सोते हैं उसकी दीवार या कोनों में मेटल यानी धातु की कोई चीज नहीं होनी चाहिए। बेडरूम की दीवारों के कोनों में किसी भी तरह की दरार नहीं होनी चाहिए। इससे आर्थिक नुकसान होता है।

पानी की निकासी
घर के अंदर से जो पानी का बाहर निकलता है उसकी ठीक दिशा न होने से भी पैसों की कमी व आर्थिक नुकसान हो सकता है। जल की निकासी पश्चिम और दक्षिण की तरफ से नहीं होनी चाहिए। यह हमेशा पूर्व व उत्तर दिशा से ही होनी चाहिए। इन दिशाओं से जल निकासी शुभ माना जाता है। जिससे घर में पैसों की कमी नहीं होती है।

कबाड़ा
यदि घर के गैराज या घर के अंदर कबाड़ या टूटे हुए बर्तन हों तो तुरंत उन्हें बाहर कर दें। अक्सर देखा जाता है कि घरों में आलमारी, टूटा पलंग व अन्य लकड़ी के सामान घर में ही पड़े रहते हैं। इससे घन की कमी व आर्थिक नुकसान होता है। और अत्याधिक खर्च भी बढ़ता है।

पानी टपकना
घर में नलों से पानी टपकना या नलकों को टाईट से बंद न करना जिस वजह से पानी टपकता रहता है। ये चीज भी वास्तुदोष पैदा करती है। जिससे गंभीन नुकसान होता है। नल से पानी टपकना यानि धीरे-धीरे पैसों का खर्च होना। इसलिए नलों को टाइट करके रखें।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।