बच्चों में तुतलेपन और बच्चों में शैयामू़त्र – दूर करने के आयुवेर्दिक टिप्स

अधिकतर छोटे बच्चों में तुतलेपन और रात में बिस्तर पर पेशाब करने की समस्या होती है। कम उम्र तक यह समस्या कोई बीमारी नहीं मानी जाती है। लेकिन जब बच्चा 4 से 5 साल का हो जाता है या किशोर होने लगता है तब भी यह समस्या बच्चे में बनी हुई है तो यह बीमारी माना जाने लगता है। जिसके लिए मां और पिता दोनों का फर्ज है कि एैसे में बच्चे पर जरूर ध्यान देकर उचित इलाज करवाएं। आगे चलकर ये समस्याएं बच्चे में हीन भावना पैदा करती है।

तुतलापन एक तरह का मानसिक दोष होता है। अधिकतर यह बच्चे में उतावलेपन की वजह से ये रोग होने लगता है। कुछ बच्चे बड़े होकर भी जल्दी बोलने का प्रयास करते है। जिस वजह से तुतलापन आ जाता है। वैदिकवाटिका आपके बच्चों के तुतलापन और रात में पेशाब करने की समस्या से कैसे निजात मिल सकता है आपको बताएगी।

तुतलेपन और शैयामूत्र की बीमारी दूर करने के आयुवेर्दिक टिप्स

तुतलेपन का आयुवेर्दिक उपाय

  • दालचीनी को चूसने व चबाने से तुतलापन ठीक होने लगता है।
  • तेजपात को जीभ के नीचे रखकर धीरे-धीरे बोलें।
  • चार बादाम रात को भिगोकर सुबह छिलकर पीस लें और उसमें 10 ग्राम मक्खन बनाकर रोज खाएं।
  • पूजा वाले शंख में सुबह पानी भरकर शाम को बच्चे को पिलाएं।

बिस्तर पर पेशाब करने की परेशानी का आयुवर्दिक इलाज

  • बच्चे को रात को सोते समय एक छुहारा खिलाने से बिस्तर पर पेशाब करने की आदत में सुधार आता है।
  • जामुन की गुठलीयों का चूर्ण बना लें और एक चम्मच इस चूर्ण को पानी के साथ मिलाकर बच्चे को दें।
  • 4 से 5 मुनक्के रोज बच्चे को सोते समय खिलाएं। एैसा रोज करने से बच्चे की शैयामूत्र की आदत ठीक हो जाएगी।
  • काले तिलों को पीसकर चूर्ण बना लें। और एक चम्मच चूर्ण को बच्चे को दें इसके बाद उपर से दूध पिलाएं। यदि बच्चा 6 साल से कम का हो तो 2 ग्राम तिल का चूर्ण दें।
  • सोने से पहले बच्चे को आधे कप पानी में दो चम्मच शहद मिलाकर पिलाएं। यदि बच्चा 6 साल से कम का है तो एक चम्मच शहद पानी में मिलाकर दें।
  • साने से पहले दो अखरोट की गिरी और 10 किसमिस कुछ दिनों तक बच्चे को देने से भी इस रोग में लाभ मिलता है।

READ: छोटे बच्चों की बीमारियां और उपचार

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।