इन्हें खाएं और कैंसर से बचें

बदलती जीवन शैली में जहां ऐशो आराम की हर वस्तु उपलबध है तो वहीं इन सुविधाओं की वजह से मनुष्य पर इसका गलत प्रभाव पड़ रहा है। जिस वजह से वह गंभीर बीमारियों से घिरता जा रहा है। आलसी जीवन बीताने की आदत से कैंसर जैसी घातक बीमारी लोगों में बढ़ती जा रही है। इंसान यही चाहता है कि बैठे बैठे हर काम हो जाए और वह बे-वजह की कई बुरी आदतों का आदि भी हो रहा है। कहते हैं जानकारी ही बचाव है। समय रहते ही जानकारी मिल जाए तो कैंसर आपको छू भी नहीं सकता है। इसलिए अपने खान-पान में आपको बस कुछ बातों को ध्यान में रखाना है और आप कैंसर जैसी घातक बीमारी से अपने और अपनों को बचा सकते हो।(health tips in hindi)

कैंसर की बीमारी को सुनकर हर किसी को डर लगता है। और कैंसर से लड़ना इतना आसान नहीं है। हाल ही में हुए शोध में इस बात का पता चला है कि लंबे समय तक एक जगह पर बैठे रहने से लोगों में कैंसर का कारण बन रहा है। एक ही जगह पर ज्यादा देर तक बैठने से शरीर की चर्बी और मोटापा बढ़ता है। और मोटापे से कैंसर होने की संभावना अधिक रहती है।

आइए जानते है कैंसर कितने प्रकार का होता है ये भी जानना जरूरी है-

1. सार्कोमा कैंसर यह खून और हड्डियों से संबंधित कैंसर होता है।
2. कार्सीनोमेा यह स्किन यानि त्वचा से संबंधित कैंसर होता है ज्यादातर कैंसर इस प्रकार का होता है।
3. लिम्फोमा इसे ग्रंथियों में होने वाला कैंसर कहा जाता है।
4. ल्यूकेमियस कैंसर खून को बनाने वाले सेल्स का कैंसर होता है।

कैंसर से बचने के लिए उपाय

ग्रीन टी और दही का प्रयोग
दही में मौजूद एसिडोफायलस कैंसर से लड़ने में मददगार होते हैं। यह शरीर में कैंसर को बढ़ने से रोकते हैं। और दही आंतों में होने वाले कैंसर से बचाती है।
ग्रीन टी यह एंटीआक्सीडेंट होती है यह शरीर के अंदर गंदगी को खत्म करके उसे साफ रखती है। ग्रीन टी कैंसर के सेलों को पूरी तरह से खत्म करने में मददगार होती है। ग्रीन टी में केटेचिन होता है जो कैंसर के प्रभाव को शरीर में बढ़ने से रोकता है।

 

सोया का प्रयोग

सोया भी कैंसर से लड़ने में प्रभावशाली होता है। सोया में मौजूद गुण फाइटोन्यूट्रिएंटस कैसंर को बढ़ाने वाले सेलों को बढ़ने से रोकते हैं और उनसे लड़ने में सहायक होते हैं। यह टयूमर को बढ़ने नहीं देता है।और उसके आकार को भी घटाता है। सोया में ओमेगा 3 की मात्रा होती है जो शरीर में पोषक तत्वों को पहुंचाकर कैंसर होने के शुरूआती लक्षणों को पहले ही रोक देती है। इसलिए खाने में सोया का प्रयोग अधिक से अधिक कर सकते हो।

पत्तागोभी
पत्तागोभी में मौजूद इंडोल्स का तत्व बढ़ते हुए कैंसर को रोकता है। इसलिए खाने में पत्तागोभी का प्रयोग भी करते रहें।

नारियल का पानी
जटा वाले नारियल के पानी के सेवन में आंतों और लीवर के कैंसर में फायदा मिलता है। साथ ही यह कैंसर के दूसरे रूपों को भी खत्म करता है। इसलिए जटा वाले नारियल का पानी अवश्य पीएं।

बेल
बेल का जूस शरीर के लिए जितना फायदेमंद होता है। उतना ही यह शरीर में कैंसर को रोकने में भी प्रभावी होता है। यह ब्लड कैंसर और हड्डियों के कैंसर के प्रभाव को कम करता है।

लहसुन
कैंसर के रोगी को लहसुन को पीसकर पानी में घोलकर पीना चाहिए यह कैंसर को ठीक कर सकता है। इसलिए नियमित लहसुन पानी पीएं।

टमाटर
टमाटर में मौजूद प्रोटीन, शरीर में कैंसर के प्रभाव से होने वाले खतरों को कम करते हैं। इसलिए टमाटर का सूप हमेशा पीएं।

चुकंदर
कैंसर से बचने के लिए चुंकदर का आधा कप रस दिन में 2 से 3 बार पीने से कैंसर को शुरूआत में ही रोका जा सकता है। चुकंदर ब्लड कैंसर से होने वाले प्रभाव से शरीर को बचाता है।

कलौंजी
कलौंजी के सेवन करने से,,  लिवर इसे, विटामिन ए  में बदलता है यह कैंसररोधी होता है। इसमें मौजूद कैरोटिन कैंसर के प्रभाव को शरीर में नहीं आने देता। कलौंजी का प्रयोग हमेशा करें।

कैंसर से बचाव के प्राकृतिक तरीके
प्राकृतिक तरीकों के प्रयोग से कैंसर से बचा जा सकता है। ये तरीके बेहद सरल हैं।

1. सुबह उठकर आप साइकिलिंग, दौड़ना और जागिंग कर सकते हो।
2. पानी का नियमित सेवन करें कम से कम 3 से 5 लीटर पानी एक दिन में जरूर लें।
3. खाना खाने के समय पानी का प्रयोग तब तक न हो जब तक जरूरी न हो। खाना खाने के 1 घंटे बाद ही पानी का सेवन करें।
4. ज्यादा मीठा, ज्यादा नमक बिलकुल भी इस्तेमाल न करें। नमक और चीनी एक तरह से शरीर के लिए सफेद जहर होता है।
5. तला हुआ खाना खाने से फाइरोलाइट्स शरीर के अंदर जाता है जो कैंसर को बढ़ावा देता है। इसलिए तली हुई चीजों से दूर ही रहें।
6. अपने को तनाव, मानसिक परेशानी से दूर रखें और इन्हें आने न दें। हमेशा कूल रहें।
7. शराब, तंबाकू और धूम्रपान से दूर ही रहें।
8. रोज 3 से 5 बादाम खाने से कैंसर शरीर में नहीं होता।
9. अपनी डायट में सब्जियों का जूस, फलों का जूस, जितना इस्तेमाल करेगें उतना ही फायदा पहुंचेगा।
10. साफ सुतरे वातावरण में अधिक से अधिक रहें। महीने में 1 बार पहाड़ों की सैर पर अवश्य जाएं।

यदि आप आफिस में कार्य करते हैं तो अधिक देर तक एक ही जगह पर मत बैठे रहें। हर 1 घंटे में आप सीट से उठकर थोड़ा बहुत चलते रहें। अपने  किसी साथी से काम के लिए फोन की बजाय उसकी सीट पर जाकर उससे कहें। इससे आपका चलना फिरना लगा रहेगा और आप बीमारी से दूर रहोगे।

कैंसर की बीमारी का कुछ पता नहीं लगता है इसलिए कहतें हैं की जानकारी ही बचाव है। यदि आप पहले से ही इन प्राकृतिक उपायों को करोगे तो इस बीमारी से हमेशा दूर रहोगे और अपना और अपने परिवार के साथ अच्छा वक्त बिताओगे। कैंसर का बचाव शुरूआती दौर में हो सकता है और यदि यह बढ़ गया तो फिर इस बीमारी का निजात पाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए आप अपनी आदतों को थोड़ा सा बदलिए और हमेंशा खुश रहें।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।