सूखा रोग का इलाज – बच्चों के लिए

बच्चों में सूखा रोग होने की अधिक संभावना रहती है। बच्चे के शरीर पर जब खाना नहीं लगता तब वह दुबला और सूखा होने लगता है। जिसकी वजह से बच्चे को सूखा रोग लग सकता है। कैल्शियम की कमी, पाचन क्रिया में गडबड़ और शरीर में विटामिन डी की कमी की वजह से सूखा रोग हो सकता है। सूखा रोग जानलेवा बीमारी भी है। आइये जानते हैं सूखा रोग के लक्षण और इसका घरेलू उपचार।

सूखा रोग के प्रमुख लक्षण

  • शरीर की हड्डियों का कमजोर होना।
  • चिड़चिड़ापन आना।
  • कमर पतली या क्षीण होने लगती है।
  • त्वचा पर झुर्रियां आना।
  • शरीर का तापमान कम हो जाना।
  • बेवजह बच्चे का चीखना-चिल्लाना आदि।

सूखा रोग को ठीक करने के घरेलू नुस्खे

अंगूर

बच्चे को पेट भर अंगूर का जूस पिलाएं। दिन में दो बार कुछ दिनों तक अंगूर का रस बच्चे को पिलाते रहने से सूखा रोग ठीक हो जाता है।

कच्चे लाल टमाटर
सूखा रोग ठीक करने में टमाटर बहुत ही उपयोगी होता है। कच्चे लाल टमाटरों का रस दिन में चार बार बच्चे को कुछ दिनों तक कराते रहें। इस घरेलू नुस्खे से सूखा रोग बहुत ही जल्दी ठीक हो जाता है।

विटामिन डी
बच्चे को विटामिन डी युक्त चीजें खाने को दें। इसके अलावा बच्चे को धूप में थोड़ी देर घूमने दें। इससे शरीर को विटामिन डी मिलता है और सूख रोग ठीक हो जाता है।

दूध
गाय या बकरी का दूध बच्चे को रोज सुबह व शाम में पिलाते रहें। यह सूखा रोग के प्रभाव को खत्म कर देता है।

शहद
शहद में अमचूर मिलाकर सूखा रोग से ग्रसित बच्चे को कुछ दिनों तक खिलाते रहने से बच्चा पूरी तरह सूखा रोग से ठीक हो जाएगा।

बादामों कि गिरी
रात में दो से तीन बादामों कि गिरी को भिगों लें और इन्हें पीसकर दूध में मिला लें और इसका सेवन सूखा से पीड़ित बच्चे को दें। इस उपाय से भी सूख रोग ठीक होने लगता है।

यदि शुरूआत में बच्चे में सूखा रोग के लक्षण दिखें तब आप तुंरत बच्चे को डाॅक्टर के पास जरूर ले जाएं। ताकि समय पर इसका इलाज हो सके।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।