शुभ दिशा जानें अलग अलग कामों के लिए

धरती और धरती पर हरएक चीज जो भी चल रही है वह सब उर्जा से चल रही हैं। और हमें दिशाओं से भी उर्जा मिलती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार इंसान की सफलता और असफलता भी दिशाओं के जरिए ही होती हैं। कुछ दिशाएं इंसान को सकारात्मक उर्जा देती हैं तो कुछ दिशाएं इंसान के जीवन को प्रभावित कर देती हैं। यदि इंसान वास्तु में बताए गए इन उपायों को करता है तो उसे जीवन में परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है। कौन से दिशाएं होती हैं शुभ आइये जानते हैं।

पढ़ते समय की दिशा
जब आपके बच्चे या आप पढ़ रहें हों तो हमेशा अपना मुंह पूर्व दिशा की ओर रखें एैसा शुभ होता है।

घर में पूजा करते समय
जब आप अपने घर में पूजा करते हों तो अपना मुख पश्चिम दिशा की ओर रखना चाहिए।
आप चाहें तो अपना मुख पूर्व दिशा की तरफ भी रख सकते हैं।

आॅफिस या दुकान में जब भी आप काम करते हों तो अपना मुख हमेशा उत्तर की दिशा की ओर ही करें। एैसा करने से काम में सफलता मिलती है।

आपका किचन इस तरह का हो जिसमें खाना बनाते समय खाना बनाने वाले का मुख उत्तर पूर्व या पूर्व दिशा की ओर हो।

खाना खाते समय आपका मुख उत्तर या पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। इससे शरीर को भोजन से मिलने वाली उर्जा पूरी तरह से मिलती है।

सोने के लिए भी दिशाओं को चुनाव किया जाता है। सोते समय सिर हमेशा दक्षिण दिशा की ओर हो।
इसके अलावा कोई भी दिशा में सिर करके नहीं सोना चाहिए।

जब कभी आप किसी नए काम की शुरूआत करें तो अपना मुख उत्तर दिशा की ओर करके करें। सफलता के लिए उत्तर दिशा को उत्तम माना जाता है।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।