शीर्षासन के फायदे और करने की विधि

Advantage-of-Shirshasan-Yoga-in-hindi

योग आसन का सबसे महत्वपूर्ण आसन है शीर्षासन। इस योग आसन में सिर के बल इंसान खड़ा होता है। और शरीर का सारा भार सिर और हाथों पर रहता है। शुरू.शुरू में इस आसन को आप दीवार के सहारे कर सकते हैं। एैसा करने से गिरने का डर नहीं रहता है। आप इस आसन को दूसरे इंसान के सहारे भी कर सकते हो। थोड़े ही दिनों में आप अपने आप शीर्षासन को आसानी से कर सकते हो।

शीर्षासन में सिर के बल खड़ा होना पड़ता है इसलिए अपने सिर के नीचे गुदगुदे या मुलायम कपड़े को रख सकते हो। सीधा जमीन पर सिर रखने से मस्तिष्क पर गलत असर पड़ सकता है। आइये आपको बाताते हैं शीर्षासान करने का तरीका और इससे मिलने वाले फायदों के बारे में।

शीर्षासन योग के फायदे

इस आसन के अनेक लाभ हैं जैसे
शरीर में नसों और नाड़ियों में खून का संचार सरल रूप से होता रहता है।
हृदय को बल मिलता है
पेट के थुलथुलेपन के साथ साथ पेट का मोटापा घट जाता है।
पाचन तंत्र मजबूत हो जाता है।
वीर्य को बढ़ाता है।
स्मरण शक्ति को यह योग बढ़ाता है।
साल भर तक इस आसन को रोज करने से सफेद बाल काले तक हो जाते हैं।
इस आसान से आंखों की खराबी दूर होती है। यह आसन आंखों की सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।
लीवर और पीलिया के रोग खत्म हो जाते हैं।

शीर्षासन करने का तरीका
सबसे पहले आप जमीन पर सिर को सहारा देने के लिए गदगदा कपड़े बिछा लें।
अब आप अपने दोनों हाथों की कुहनीयों को जमीन पर रखें।
फिर अपने सिर को गदगदे कपड़े के उपर रखें।
और सिर तथा हाथों को पूरी तकत देकर छातीए पेट और पूरे पैरों को आसमान की तरफ सीधा उठाने की कोशिश करें।
जब आपका पूरा शरीर सीधा उपर उठ जाए तब समझे कि आप शीर्षासन की पूर्ण स्थिति में आ चुके हैं।
आप शुरू में इसे दीवार के सहार खड़े होकर भी इसे कर सकते हैं। या किसी इंसान के सहारे भी।
शीर्षासन को शुरू में आधा मिनट तक करना चाहिए। धीरे.धीरे आप अपना समय बढ़ा सकते हैं। और आधे घंटे तक शीर्षासन को किया जा सकता है।

शीर्षासन करने के बाद आपको प्राणायाम करना चाहिए। अनुलोम विलोम भी आप कर सकते हो।

शीर्षासन करते समय सावधानी
इस आसन को किसी योग शिक्षक की देख रेख में ही करें
गर्भवती महिलाएं इस आसन को ना करें।
धीरे.धीरे इस आसन को करना चाहिए।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।