साइनसाइटिस का उपचार और शुरूआती लक्षण

यदि सिर में दर्दए कफ का गाढ़ा होनाए पूरे चेहरे में दर्द होनाए नाक का बहनाए ठंड लगनाए बेचैनी होनाए गले में दर्द बने रहनाए आंखों में लालिमा आनाए जबड़ों में दर्द होना, सीने में कफ जमना, बंद नाक रहना, सांस से बदबू आना, बुखार रहना और बहुत जल्दी किसी भी काम के बाद थकान लगना आदि साइनसाइटिस के शुरूआती लक्षण हो सकते हैं।

साइनसाइटिस की बीमारी में नाक की हड्डी बढ़ जाती है और सांस लेने में इंसान को दिक्कत आने लगती है। ऐसे में जब धुवंा और हवा नाक में जाती है तब इंसान को बहुत पेरशानी होने लगती है।

साइनसाइटिस रोग के कारगर घरेलू नुस्खे
साइनसाइटिस का रोग आयुवेर्दिक घरेलू नुस्खों के जिरए ठीक हो सकता है। आइये जानते हैं इस रोग का उपचार

अजवाइन का प्रयोग
साइनसाइटिस की बीमारी में अजवाइन एक कारगर घरेलू औषधि है।

कैसे करें अजवाइन का प्रयोग
सबसे पहले आप अजवाइन की तीन बड़ी चम्मच लें और उसे एक तवे पर भूने।

अब किसी सूती कपड़े में इन भुने हुए अजवाइन के दानों को डालकर इसे बांध लें। और इसे थोड़ा सा ठंडा होने दें।

साइनसाइटिस की वजह से आपको चेहरे व जबड़े में जिस भी हिस्से में दर्द हो रहा हो उस जगह पर हल्का.हल्का इसे रखें। इस उपाय से साइनसाइटिस के दर्द से बहुत ज्यादा आराम मिलता है।
तुलसी का उपयोग
काली मिर्च के चूर्ण को तुलसी के पत्तों में डालकर इसे दिन में दो से तीन बार सेवन करें। इस उपाय से साइनसाइटिस रोग मे राहत मिलती है।

साइनस की बीमारी से परेशान लोगों को शहद को तुलसी के रस में डालकर इसका सेवन करना चाहिए। इससे सांस लेने में आ रही परेशानी दूर हो जाती है।

तुलसी का अन्य घरेलू नुस्खा
काली मिर्च के दस दाने
एक गिलास पानी
15 तुलसी के पत्ते
और अदरक
इन तीनों को अच्छी तरह से मिक्सर या सिलबट्टे पर पीस कर चूर्ण बना लें और इसको एक गिलास पानी में डालकर तब तक उबालें जब तक यह आधा न रह जाए। इसके बाद इसे छानें और हर एक घंटे के बाद इसे पीते रहें। यह उपाय साइनसाइटिस के रोग को ठीक करता है।
नीलगीरी का तेल भाप
आसानी से बाजार में मिल जाता है नीलगीरी का तेल। ये तेल एंन्टीसेप्टिक और बैक्टिरिया रोधी गुण होते हैं। जो साइनसाइटिस के उपचार में काम आते हैं।

कैसे इस्तेमाल करें नीलगीरी तेल का
आप सबसे पहले किसी बर्तन में नीलगीरी तेल के दो से तीन बूंदे डालें और फिर इसको सूघें। या भप लें। इस उपाय से साइनसाइटिस से होने वाला कफ और दर्द ठीक हो जाएगा।

भाप लें
साइनसाइटिस का एक और घरेलू नुस्खा है भाप
किसी बर्तन में पानी को गर्म करें और उसमें काली तुलसी के पत्तों को डालकर उसका भाप लें। इस घरेलू उपाय से साइनसाइटिस के दर्द और कफ से राहत मिलती है।
जीरे का काढ़ा
हर घर में जीरा मौजूद रहता है। जीरे में प्राकृतिक गुण होते हैं और यह भी साइनसाइटिस का इलाज करता है।

कैसे बनाएं जीरे का काढ़ा
बहुत ही आसान तरीके से बना सकते हैं जीरे का काढ़ा। इसके लिए आपको थोड़ा अदरक
जीरे की एक छोटी चम्मच
तुलसी के पत्ते
और एक बड़ा गिलास पानी

सबसे पहले आप एक गिलास पानी काे उबालें और इसमें अदरकए तुलसी के पत्ते और जीरे को डाल दें। और फिर इसे छानकर गुनगुना करके इसका सेवन करें। यह उपाय आपको साइनसाइटिस के दर्द में राहत देगा।

गरम पानी
साइनसाइटिस के रोगियों को चाहिए कि वे हमेशा गरम या गुनगुना पानी पीएं।

मेथी की चाय
मेथी की चाय में मौजूद गुण साइनसाइटिस की बीमारी की रोकथाम करते हैं। चाय आप जैसे बनाते हैं वैसे ही बनाएं बस उसमें मेथी के कुछ दानों को भी डाल लें। और इस चाय का नियमित सेवन करें। मेथी के दानों की चाय साइनसाइटिस के दर्द में भी राहत देती है।
योग को अपनाएं
योग में हर बीमारी का इलाज होता है। साइनसाइटिस एक सांस से संबंधित बीमारी है। इसलिए इस रोग को ठीक करने के लिए कपालभाती प्राणायाम करना चाहिए। जो साइनसाइटिस की समस्या को को जड़ से ठीक कर देता है।

इन आसान घरेलू नुस्खों को अपनाकर आप साइनसाइटिस रोग से राहत पा सकते हो। लेकिन इसके लिए इस बात का ध्यान जरूर रखें कि जो भी उपाय आप कर रहे हो वे नियमित रूप में हो। जिससे जल्दी से यह बीमारी ठीक हो सके।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।