श्री कृष्ण का चमतकारी मंत्र दूर करेगा आपके संकट

krishana

हर कोई आज परेशान हैं। जिंदगी में हर तरह से किसी न किसी रूप में परेशानी आती रहती है। जब किसी का साथ नहीं मिलता है तो सिर्फ एक सहारा मिलता है वो है भगवान का सहारा। इंसान की हर समस्या का समाधान गीता में है। लेकिन भाग दौड़ वाली इस जिदंगी में समय का बहुत आभाव है।

इसलिए हम आपको श्री कृष्ण का दिव्य और चमतकारी मंत्र को बता रहें हैं जिसे जपने या पढ़़़ने से आपकी समस्याएं भगवान श्री कृष्ण दूर करेगें। लेकिन इसके लिए विश्वास और आस्था का होना भी जरूरी है।

श्रीमद्भगवत गीता के चौदवें अध्याय में दिया गया है ये श्लोक-

गुणानेतानतीत्य त्रीन्देही देह समुद्भवान्। जन्ममृत्युजराहुः खैर्विमुक्तोअमृतमश्रुते।

इस श्लोक को रविवार या गुरूवार को जप करने से आपको सुकून और मानसिक शांति का अनुभव होगा।

इस मंत्र को सुबह या शाम जब भी आपको समय मिले कम से कम 21 बार और अधिक से अधिक 101 बार जाप करें।

यदि इस बड़े मंत्र को जपने आपको दिक्कत आए तो आप ऊं कृष्णाय नमः मं: का जाप कर सकते हैं।

गायत्री मंत्र के लाभ – कई रोगों से सुरक्षा

मंत्र जाप के लिए कुछ नियमों का पालन करना भी जरूरी है जैसे 

लहसुन, शराब और मांस आदि का सेवन न करें।

इस मंत्र को जपते समय पीला वस्त्र जरूर पहनें।

गुरूवार के दिन पीला वस्त्र और रविवार के दिन बैगनी वस्त्र पहन कर इस मंत्र का जाप करें।

बीमारा और बूढ़े व्यक्ति को ये श्लोक पढ़ने के बाद शनिवार के दिन काले कपड़े को मंदिर में दान देना चाहिए। या फिर किसी गरीब इंसान को भी दान दे सकते हैं।

इस मंत्र का नियमित जाप करने से भगवान श्री कृष्ण प्रसन्न होते हैं और आपके सारे कष्टों को खुद हरते हैं।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।