दुकान व शोरूम का वास्तु शास्त्र

यदि आप अपनी दुकान व शोरूम बना रहे हैं या पहले से ही है तो आपको कुछ वास्तु शास्त्र के नियमों का भी ध्यान रखना जरूरी है। यदि वास्तु के हिसाब से किसी भी तरह की कोई कमी रहती है उससे नुकसान तक हो सकता है। दुकान और शोरूम के लिए वास्तु शास्त्र के क्या नियम हैं वैदिक वाटिका आपको बता रही है। ताकि आपको लाभ मिल सके। 

दुकान व शोरूम का वास्तु शास्त्र

 

  • आप अपनी दुकान के उत्तर पूर्व दिशा यनि ईशान कोण की तरफ अपने इष्टदेव का चित्र लगा सकते हो। या इसी तरफ पीने का पानी भी रख सकते हो।
  • वास्तुशास्त्र के अनुसार बिजली का मीटर या पावर पेनल अथवा स्विच बोर्ड को दुकान के दक्षिण पूर्व दिशा की तरफ लगाना सही माना जाता है।
  • आपके ग्राहक का मुख काउंटर पर खड़े होते समय दक्षिण या पश्चिम की तरफ और विक्रेता का मुख उत्तर या पूर्व की तरफ होना चाहिए। 
  • आपकी दुकान का मुख पूर्व की तरफ होना शुभ होता है और दक्षिण की तरफ अशुभ माना जाता है। दुकान व शोरूम का मेन गेट दीवार के बीच में होना चाहिए।
  • शोरूम व दुकान के अंदर का सामान, अलमारियां और कैश काउंटर उत्तर पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए। यह शुभ लाभ देने वाला होता है।
  • दुकान का गल्ला या कैशबाक्स का मुख हमेशा दक्षिण और पश्चिम दीवार के सहारे होना शुभ माना जाता है।
  • दुकान के मैनेजर या मालिक को दक्षिण-पश्चिम दिशा में बैठना शुभ माना जाता है।
  • कैश कांउटर, मालिक व मैनेजर की बैठने की जगह के उपर कोई बीम नहीं होना चाहिए। यह शुभ नहीं माना जाता है। 
  • दुकान में यदि किचन है तो इसकी दिशा दक्षिण-पूर्व की ओर होना चाहिए।
  • शोरूम या दुकान में यदि शीशे का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो इसे पूर्व और उत्तर दिशा में लगाना शुभ रहता है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।