स्क्रब टाइफस ज्वर के लक्षण और बचाव

स्क्रब टाइफस ज्वर खतरनाक जीवाणु जिसे रिकेटशिया यानि संक्रमित माइट( पिस्सू ) के काटने से फैलता है। ये  झाड़ियों, खेतों, घास और घर में रहने वाले चूहों और पिस्सू के कारण फैलता है। यह जीवाणु चमड़ी के जरिए शरीर में प्रवेश करता है और स्क्रब टाइफस बुखार को पैदा करता है। यह टाइफस अब रूकने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक हिमाचाल प्रदेश में इस रोग से 6 लोगों की मौत हो चुकी है और 125 से अधिक लोग इस बीमारी की चपेट में हैं। और ये वाइरस बढ़ता जा रहा है। इसकी अभी तक कोई दावा भी बही बनी है केवल जानकारी ही जानकारी ही बचाव है।

कैसे फैलता है “स्क्रब टाइफस”
यह बीमारी बरसात के मौसम में अधिक तेजी से फैलती है। डाक्टरों का कहना है कि जब लोग बरसात में काम करने के लिए घर से बाहर जाते हैं तब रास्ते में, जंगलो में या खेतों में काम करते समय पिस्सू नाम का इस जीवाणु के काटने से स्क्रब टाइफस वायरस शरीर में चला जाता है और 48 से 72 घंटों के अंदर अपना असर दिखाना शुरू कर देता है। स्क्रब टाइफस वायरस शरीर में बुखार आने के संकेत देता है। आइये जानते हैं इस वायरस के क्या लक्षण होते हैं।

स्क्रब टाइफस ज्वर के लक्षण

  • इस रोग में मरीज को 104 से 105 तक बुखार आता है।
  • दूसरा लक्षण है कंपकपी और जोड़ो में दर्द होना।
  • तीसरा लक्षण है शरीर का टूटना।
  • अगला लक्षण है शरीर में ऐंठन और अकड़न आना।
  • पांचवा लक्षण है बाजू, हाथ और गर्दन में गिल्टियां होना।

स्क्रब टाइफस ज्वर से बचने के उपाय

इस रोग से बचने का कोई कारगर उपाय अभी तक नहीं बन पाया है लेकिन कुछ तरीके हैं जिनसे इस रोग से बचा जा सकता है।
1. घर के आसपास के इलाके को साफ रखें।
2. शरीर को स्वच्छ रखें और हमेशा साफ कपड़े पहनें।
3. घास व खरपतवार को घर के आसपास न उगने दें।
5. कीटनाशक दवाओं का छिड़काव घर के आसपास जरूर करें।
6. जंगल के रास्ते व खेतों में काम करते समय अपने हाथ पैरों को अच्छे से ढक कर रखें।

इस समय स्क्रब टाइफस से बचने का तरीका केवल जानकारी ही है। वैदिक वाटिका आपको हर एैसी बीमारी से पहले से ही सचेत कर देता है ताकि आप और आपका परिवार किसी भी बीमारी से बच सके।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।