बीमारियां जो आराम ना करने से होती हैं

हर वक्त अपने को व्यस्त रखना और देर तक काम करना आजकल के लोगों में अधिक देखा जा रहा है। हर इंसान चाहता है कि अधिक पैसे कमाने के लिए उसे लंबे समय तक काम करना है। लेकिन इस वजह से आप कई रोगों से घिर जाते हो जैसे मानसिक परेशानी, ज्यादा थकान, घबराहट और बेचैनी। आयुर्वेद में भी कहा गया है कि अपनी क्षमता से अधिक कार्य करने से इंसान की शारीरिक और मानसिक क्षमता कम हो जाती है जिस वजह से शरीर जल्दी ही बूढ़ा होने लगता है। इसलिए वैदिकवाटिका आपको बता रही है आराम करने से आपको क्या फायदे मिलते हैं जिससे आप स्वस्थ रह सकें।

आराम न करने से होने वाली बीमारियां

 

  • आराम न करने से सिर का भारीपन और सिर में दर्द की समस्या रहती है।
  • शरीर को विश्राम न मिलने से पेट के रोग और दिल संबंधी बीमारियां लगने लगती है।
  • काम में एकाग्रता की कमी ।
  • चेहरे की सुंदरता, त्वचा पर धब्बे पड़ना और चेहरे का निखार खराब होना भी विश्राम न करने की मुख्य वजह है।
  • शरीर का जल्दी से थकना।
  • गुस्सा आना।
  • आलस्य।
  • चिड़चिड़ापन जैसे लक्षण दिखने लगते हैं।

किस तरह से विश्राम करने की आदत डालें

  • दिन में एक बार जरूर ताजे पानी से नहाए।
  • अच्छी नींद के लिए सोने से दो घंटा पहले खाना खा लें।
  • जितना हो सके अपने भोजन को शाकाहारी रखें या संतुलित भोजन करें।
  • ज्यादा देर रात तक काम न करें। 11 बजे तक हर हाल में सो जाएं।
  • शराब, चाय, सिगरेट, काफी और गुटखा जैसी नशीली चीजों से दूर रहें।
  • रात को सोने से पहले हाथ-पैरों को साफ पानी से धोकर बिस्तर पर जाएं।
  • जो कुछ भी बुरा हुआ है पूरे दिन में उसे सोने से पहले भूल जाएं। इससे आपकी मानसिक परेशानी दूर होगी।
  • विश्राम करने से पहले अपने अगले दिन के काम को एक नोट पैड़ पर लिख लें। और उसे बार-बार पढ़ें।
  • कभी भी रात को सोने से पहले हिंसक और अशलील फिल्में न देखें।

इन उपायो को करने से आप बेहतर और स्वस्थ तरीके से अपना जीवन जी सकते है।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।