स्वाइन फलू से बचाव

(Swine flu)स्वाइन फलू यह एक वायरस है इसे H1N1 वायरस भी कहा जाता है। जिसमें रोगी को सर्दी, बुखार और खांसी के लक्षण दिखाई देते हैं। इस बीमारी का पता सबसे पहले 2009 लगा था। स्वाइन फलू महामारी की तरह फैलने लग गया है। यह रोग एक आदमी से दूसरे आदमी में हवा के द्वारा फैलता है। अब तक कई लोगों की मौत इस वायरस की वजह से हो चुकी है। यह रोग सूअर पालने वाले लोगों पर अधिक और तेजी से फैलने की संभावना होती है। इस रोग में उचित जानकारी ही बचाव है। आइये सबसे पहले आपको बताते हैं इस रोग के लक्षणों के बारे में।
स्वाइन फलू के लक्षण

यह वायरस खतरनाक होता है जिसमें मरीज को ठंड लगना, शरीर में कमजोरी महसूस होना, थकावट लगना, सिर में दर्द बने रहना गला दुखना, खांसी, सर्दी लगना, दस्त और उल्टी आना, चक्कर आना आदि होता है। यह लक्षण कभी इतने गंभीर हो जाते हैं जिससे रोगी की बीमारी से मौत भी हो सकती है।
स्वाइन फलू की चपेट में सबसे पहले कौन लोग आते हैं। ये भी जानना जरूरी है। यह रोग अधिक तेजी से छोट बच्चे जो 5 साल से कम उम्र के होते हैं, जो महिला गर्भवती है, बुजुर्ग लोग और डायबिटीज और आस्थमा के मरीज भी इस रोग की चपेट में शीध्र आते हैं।

 

कैसे फैलता है यह रोग

जिस व्यक्ति को स्वाइन फलू हो उसके खांसने या छींकने से सामने वाले व्यक्ति को फैल सकता है। यह रोग इतना गंभीर है की रोगी को छूने या हाथ मिलाने से भी फैल सकता है। यह रोग संक्रमित व्यक्ति के संपर्क के 1 सप्ताह के बाद दूसरे व्यक्ति पर असर दिखाना शुरू करता है। यह वायरस बहुत ही खतरनाक होता है।

 

स्वाइन फलू से रोकथाम और बचाव

इस वायरस से बचने का सबसे कारगर उपाय है कि आप अपने आसपास का माहौल स्वच्छ बना कर रखें। गंदगी को बिलकुल न रखें।

भीड़ भाड़ वाले इलाके में जाते समय अपने पास टिश्यू पपेर जरूर रखें ताकि छींक या खांसी के समय चेहरे को ढक सकें।

मास्क को चेहरे पर लगायें। क्योंकि यह रोग हवा द्वार अधिक तेजी से फैलता है।

जैसे ही आपको लगे की यह लक्षण शरीर में हो रहे हैं तो तुरंत चिकित्सक से सलाह लें। बिना डरे और घबराये हुए अपने टेस्ट करायें जैसा डाक्टर ने बताया हो। क्योंकि भारत में इस वायरस से लड़ने वाली दवा टैमीफलू उपलब्घ है।  Oseltamivir  के नाम से भी जाना जाता है। थोडी सी जानकारी ही बचाव है।
 
  
 
  
 
  

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।