प्रेगनेंसी में कैसे रहना चाहिए

गर्भावस्था में सेहत का ख्याल रखना महिलाओं के लिए बेहद जरूरी है। एैसा माना जाता है कि गर्भावस्था में 80 प्रतिशत रोग पाचनतंत्र में गड़बड़ी की वजह से होते हैं। इसके अलावा एसिडिटी और गैस की समस्या भी होने लगती है। जिसका मुख्य कारण है ठीक तरह से खाना न चबाना। गैस की वजह से सिर में दर्द, नींद न आना, जोड़ों में दर्द रहना और कोलेस्ट्राल का स्तर बढ़ना आदि है। एक अन्य परेशानी इस अवस्था में आती है वह है वजन का बढ़ना जिसके बाद फिर अचानक कमजोरी का आना। इन सभी परेशानियों से बचने के लिए आपको कुछ हेल्थ केयर टिप्सों को जानना जरूरी है।

प्रेगनेंसी में कैसे रहना चाहिए

  • रात को खाना कम या हल्का खाएं। भोजन में कुछ मात्रा में देसी घी को जरूर शामिल करें। साथ ही आप सूप का भी सेवन करें। एैसा करने से पाचनतंत्र पर किसी भी प्रकार का दबाब नहीं पड़ता है। और भूख भी कम लगेगी। आपको अचार, नमकीन व तीखे पदार्थों का सेवन नहीं करना है।
  • कुछ महिलाओं को नाखून चबाने के आदत रहती है। एैसा न करें क्योंकि नाखून चबाने से पेट में इंफेक्शन व कीड़े हो जाते हैं।
  • दूध के साथ एक चम्मच केसर मिलाकर जरूर पीएं।
  • गर्भ के दौरान महिलाओं को दांतों और मसूड़ों की समस्या होने लगती है। एैसे में मसूड़ों और दांतों की सेहत को ठीक रखने के लिए जबड़े को पूरी तरह से खोलकर बंद करें। यानि जबड़ों का व्यायाम करें। एैसा 20 से 30 बारी तक करें।
  • तलवों पर जलन होने पर देसी घी से मालिश करें।
  • गुनगुने पानी को मुंह में 40 से 50  सेकंड तक रखें। एैसा करने से आप टान्सिल और गले संबंधित रोगों से बच सकते हो।
  • जुकाम होने पर तुलसी के पाउड़र को सूंघें।
  • गर्भ के पहले 3 माह में उबकाई वाली परेशानी को दूर करने के लिए आंवला व सोंठ का सेवन जरूर करें।
  • आंखों में जलन या दर्द होने पर एक कप में थोड़ा ठंडा पानी डालें और उसके उपर से एक बूंद लैवेंडर तेल की डालें। उसमें रूई भिगोकर अपनी आंखों के उपर लगाएं। आपको आराम मिलेगा।

वैधानिक चेतावनी
गर्भ के दौरान महिलाओं को एलोवेरा और त्रिफला के अलावा सोनामुखी का सेवन नहीं करना चाहिए।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।