पीपल के पेड़ के चमतकारी लाभ

पीपल के पेड़ को हिंदू धर्म में पूजा जाता है। यह पेड़ कोई साधारण पेड़ नहीं है। इस पेड़ में देवी देवता बसते हैं। साथ ही साथ यह इंसान की कई सारी बुरी दशाओं को भी खत्म करता है। पीपल का पेड़ वैज्ञानिक दृष्टि से रात और दिन दोनों समय में आॅक्सीजन देता है। आइये जानते हैं पीपल के चमतकारी फायदे।

पीपल के पेड़ के चमतकारी फायदे
साढ़ेसाती या ढईया
पीपल के पेड़ पर नियमित रूप से पानी चढ़ाने से शनि की साढ़ेसाती खत्म होती है। शनि का प्रभाव यदि आपको परेशान करता है तो आप रोज पीपल के पेड़ पर सूत का धागा बांधे। एैसा नियमित करें।
कालसर्प दोष
यदि आपकी कुंड़ली में कालसर्प दोष है और आप उससे परेशान रहते हों तो नियमित रूप से पीपल के पेड़ की परिक्रमा करें। एैसा करने से कालसर्प दोष खत्म हो जाता है।

दुख निवार्ण के लिए
वैदिक ग्रंथों में बताया गया है कि यदि इंसान के जीवन में दुख अधिक आ रहें हों तो वह इंसान पीपल का पेड़ जरूर लगाएं।
पीपल का पेड़ लगाने से जीवन में कभी पैसों की कमी नहीं रहती है। शास्त्रों के अनुसार यदि इंसान पीपल के पेड़ की देखभाल करता है वह इंसान कभी जीवन में धन की कमी से परेशान नहीं होता है।

बाधाओं से बचने के लिए
एैसा माना जाता है कि जो इंसान पीपल के पेड़ के नीचे शिवलिंग स्थापित करता है और उसकी पूजा करता है वह इंसान समस्त बाधाओं और कष्टों से मुक्त हो जाता है।

शरीर के कष्टों में
जिस इंसान को शरीरिक कष्ट होते हों वे नियमित रूप से पीपल के पेड़ के नीचे दीया जलाएं।

हनुमान चालीसा का पाठ पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर पढ़ने से शनि की दषा खत्म हो जाती है और आपको चमतकारी फायदे मिलते है।

धन प्राप्त करने के लिए
शनिवार के दिन में आप पीपल के पेड़ का एक पत्ता लें और उसे धो कर हल्दी से उसपर ह्रीं लिखें। और धूप दिया दिखाकर इस पत्ते को अपने पर्स या बटुए मे ंरख दें। एैसा करने से पर्स में कभी धन की कमी नहीं रहेगी।

ये छोटे छोटे उपाय आपके लिए बहुत काम के हो सकते हैं यदि आप इन पर विश्वास बनाते हैं।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।