आखिर क्यों नहीं याद रहता पूर्व जन्म

कोई भी मनुष्य इस धरती पर जन्म लेता है लेकिन उसे अपने पूर्व जन्म के बारे में कुछ पता नहीं होता है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने कई शोध किये हैं जिसके आधार पर कई बाते सामने आई। यदि आप से पूछा जाए कि आपने पिछले सप्ताह में कौने से कपड़े पहने थे। या क्या खाना खाया था। आपको यह शायद पता न हो। यदि आप से पूछा जाए आप पिछले जन्म में क्या थे। और किस कारण आपकी मौत हुई थी। ये सभी राज आपको नहीं पता होगें जिसकी कई वजह होती हैं। आइये जानते हैं क्या हैं वे वजहें जिसकी वजह से पूर्व जन्म याद नहीं रहता है।

वैज्ञानिकों ने भी माना है कि पिछले जन्म की बातों को याद रखना नामुमकिन है।जिसकी वजह है मां के गर्भ में मौजूद आसीटासिन नामक तत्व। बच्चे के पैदा होते है आसीटासिन गर्भ में निकल जाता है। यदि यह तत्व बच्चे के साथ ही बाहर आ जाए तो पूर्व जन्म की बातों को ठीक तरह से याद रखा जा सकता है।

 

प्राकृतिक कारण

 

प्राकृति ने मनुष्य का दिमाग भूलने के लिए बनाया है। यानि की पुरानी बातों को भूलना और नई बातों को सोचना। अक्सर जिंदगी में इंसान के साथ बुरी घटनाएं हो जाती हैं जिन्हें वह भूल कर नई जिदंगी की शुरूआत करता है। इसलिए भी पूर्व जन्म याद नहीं आता है।

 

डर

पिछले जन्म की बातों को याद न रख पाने का तीसरा कारण हैं  पिछले जन्म में हुई आकास्मिक मौत या दुखद धटना। जिसकी वजह से नए जन्म में इंसान के दिमाग में हर वक्त उन्हीं चीजों का घूमना और फिर से दुखी हो जाना।

 

नियम जो है शक्ति का

शक्ति का नियम के अनुसार कुछ लोगों को अपना पिछला जन्म का याद होना। जैसे कि उसका नाम, कहां रहता था, कौन थे माता पिता आदि। ऐसा कई बार हुआ है लेकिन बहुत ही कम यह देखा जाता है।

 

कर्म और आत्मा

हमारे शास्त्रों में भी साफ कहा गया है कि कर्मों से ही उसका अगला जन्म सुधरता है। जिसका मतलब है कि आत्मा के कर्म इंसान को उसके पिछले जन्म की और खिचते हैं।

जिससे इंसान अपने पिछले जन्म को अच्छे से याद रखता है। लेकिन ये घटना लाखों करोड़ों में से किसी एक या दो इंसानों को ही हो पाती है

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।