मूंगफली खाने के फायदे

मूंगफली बेहद सस्ती और आसानी से मिलने वाला खाघ पदार्थ है। यह सेहत का खजाना होती है। इसके साथ ही यह वनस्पति प्रोटीन का एक स्त्रोत भी है। दूध और अंडे में इसके मुकाबले कम प्रोटीन पाया जाता है। यह आयरन, नियासिन, फोलेट, कैल्शियम और जिंक का एक अच्छा स्त्रोत है। मूंगफली के थोड़े से दानों में 426 कैलोरीज, 5 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 17 ग्राम प्रोटीन और 35 ग्राम वसा होता है। इसमें ई, के और बी 6 की भी भरपूर मात्रा पाई जाती है।

सर्दियों में मूंगफली का सेवन करने से शरीर को पोषक तत्व मिलते हैं। मूंगफली प्रोटीन का उत्तम स्त्रोत है। इसके साथ ही यह आपको शारीरिक और मानसिक शक्ति भी देती है। और शरीर को कई गंभीर बीमारियों से भी बचाती है मूंगफली। आयुर्वेद के अनुसार मूंगफली स्वाद में सुपाच्य, मधुर और पौष्टिक स्वभाव की होती है जो टीबी नाशक और मूत्र संबंधी रोगों में लाभदायक है।

मूंगफली शारीरिक विकास और फेफड़ों को ताकत देने वाली होती है। मूंगफली का प्रयोग इसके बीजों व तेल के रूप में किया जाता है। इसके अलावा किन रोगों को मूंगफली खत्म करती है। आज हम आपको इसकी पूरी जानकारी दे रही है। आइये जानते हैं मूंगफली खाने के फायदे के बारे।

मूंगफली खाने के फायदे

  • मूंगफली का नियमित सेवन करने से प्लेग जैसे खतरनाक बीमारी से बचा जा सकता है। मूंगफली को रात में भिगोकर सबुह नाश्ते में खाने से पूरे दिन शरीर को उर्जा मिलती रहती है।
  • शिशुओं की माताओं को मूंगफली का नियमित सेवन करना चाहिए। मूंगफली, मां के दूध में बढोतरी करती है जिससे शिशु को पूरी मात्रा में प्रोटीन मिलता है।
  • खाना खाने के बाद 15 दाने मूंगफली के खाने से बच्चों की स्मरण शक्ति और स्वास्थ्य दोनों तेजी से ठीक होता है।
  • सब्जी, खीर और खिचड़ी में मूंगफली को डालकर खाने से पेट साफ हो जाता है और शरीर को पोषक तत्व भी मिल जाते हैं।
  • मूंगफली भी बादाम की तरह ही शक्तिवर्धक पदार्थ है। इसलिए सर्दियों में शरीर को अंदर से गर्म रखने के लिए मूंगफली बेहतर खाद्य पदार्थ है।
  • घर में मवेशियों को मूंगफली की पत्तियां या खली खिलाने से उनके दूध में भी बढ़ोतरी होती है।
  • मूंगफली में ट्राइटोफन नामक एमिनो एसिड पाया जाता है जो मस्तिष्क में सेरोटोनिन के उत्पादन में मदद करता है। जो लोग अक्सर अवसाद में होते हैं। उनके लिए  मूंगफली का सेवन बहुत ही लाभकारी होता है।
  • मूंगफली का नियमित सेवन करने से खून में कमी नहीं होती।
  • मूंगफली विटामिन बी का अच्छा स्त्रोत है। इसका नियमित रूप से सेवन करने पर दिमाग और यादाश्ति तेज होती है। इसके इलावा इसमें बी कॉम्प्लेक्स भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है।
  • मूंगफली का सेवन गीली खांसी में बहुत ही उपयोगी होता है। इसका नियमित सेवन करने से आमाशय और फेफड़ों को मजबूती मिलती है। इससे पाचन शक्ति बढ़ती है और भूख न लगने की समस्या दूर होती है।
  • सर्दियों में अक्सर त्वचा फटने की समस्या और हाथ-पैरों में खुश्की की परेशानी रहती है। ऐसे  में कच्ची मूंगफली खाने से चेहरा साफ व मुलायम हो जाता है।
  • इसमें कैल्शियम और विटामिन डी की भरपूर मात्रा पाई जाती हैं। यहीं कारण हैं कि इसका नियमित सेवन करने से आपकी हड्डियों को मजबूती मिलती है।

क्या मूंगफली खाने से खांसी होती है?

कई लोगों का कहना है कि मूंगफली खाने से खांसी होने लगती है। लेकिन यह गलत है। ऐसा नहीं है। यदि आप मूंगफली के लाल छिलकों को उतार कर इसका सेवन करें और इसके बाद पानी न पीएं तो, खांसी कभी हो नही सकती है।

मूंगफली का तेल

  • मूंगफली के दानों के अलावा इसका तेल भी इंसान के शरीर के लिए बेहद पौष्टिक और उर्जा देने वाला होता है। इसके तेल में लिनोलिन एसिड की भरपूर मात्रा होती है।
  • मूंगफली का तेल क्षय रोग यानी टीबी की समस्या से पीड़ित लोगों के लिए बेहद फायदेमंद होता है।

हृदय रोग में उपयोगी

मूंगफली का तेल दिल के मरीजों के लिए बेहद उपयोगी है। यह तेल कोलेस्ट्रोल की मात्रा को रोक देता है। जिससे हर्ट अटैक की संभावना कम हो जाती है।

जोड़ों के दर्द में

जोड़ों में दर्द होने पर मूंगफली के तेल से मालिश करनी चाहिए।इससे हाथ-पैर के जोड़ों का दर्द ठीक होने लगता है।

त्वचा के लिए

मूंगफली का तेल त्वचा से संबंधित परेशानियां जैसे चेहरे का रूखापन, खाज-खुजली आदि में  लाभकारी सिद्द होता हैं। मूंगफली के तेल को हल्का गर्म करके त्वचा पर लगाने से त्वचा संबंधी परेशानियां दूर हो जाती है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।