नवरात्रों में पहने ये रंग और करें देवी माँ को प्रसन्न

special-nine-colours-each-day-navratri-in-hindi

नवरात्रों में देवी यदि आपके उपर प्रसन्न हो जाए तो आपको धन और शक्ति की जीवन में कभी कमी नही रहेगी। नवरात्रों में हम तरह तरह से मां भगवती को प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं। मां भगवती को भी रंगों से बहुत प्यार है। यदि आप नौ दिनों में बताए गए नौ प्रकार के कपड़ों को पहनते हैं तो मां आपकी दरिद्रता और परेशानियों को दूर कर देगी। आइये जानते हैं इन नौ दिनों में हर दिन के हिसाब से किस रंग के कपड़ों को पहनना चाहिए।
देवी को प्रसन्न करना है तो नवरात्रों में पहने ये रंग:
पहला दिन नवरात्रि का
पहला नवरात्रा मां शैलपुत्री का होता है इस दिन मां भगवती को ग्रे रंग बहुत प्रिय होता है। और इसी रंग में मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है।

दूसर नवरात्रा

नवरात्रे का दूसरा दिन देवी ब्रह्मचारिणी का होता है। इस दिन आप नारंगी रंग के वस्त्रों को धारण कर सकते हो। देवी  ब्रह्मचारिणी  को नारंगी रंग बहुत प्रिय है।

तीसरा नवरात्रा
तीसरा नवरात्रा मां चंद्रघंटा का होता है। देवी चंद्रघंटा को सफेद रंग अति प्रिय है। इस दिन आप पूजा के समय में सफेद शु़द्ध रंग का कपड़ा पहन सकते हो।

 चौथा नवरात्रा

नवरात्रि का  चौथा दिन मां कुष्मांडा का होता है। इस दिन मां की पूजा लाल रंग के वस्त्र से होती है। देवी कुष्मांडा को लाल रंग अति प्रिया है। आप भी इस दिन लाल रंग के वस्त्र पहन सकते हो।

पांचवा नवरात्रा

नवरात्रे का पांचवा दिन देवी स्कंदमाता का होता है। देवी स्कंदमाता को नीला रंग अति प्रिय है। इस दिन नीले रंग के वस्त्र पहने और मां की पूजा करें।

छटवां दिन का नवरात्रा
नवरात्र के छटवां दिन देवी कात्यायनी की पूजा की जाती है। देवी कात्यायनी को  पीला रंग अति प्रिय है। इस दिन पीले वस्त्रों को पहन सकते हैं।

सातवां दिन
नवरात्रे का सातवां दिन मां के कालरात्रि स्वरूप की पूजा अर्चना की जाती है। इस दिन को सप्तमी भी कहा जाता है। देवी कालरात्रि को हरा रंग प्रिय है। आप  इस दिन हरे रंग के वस्त्र को पहन सकते हो।

आठवां नवरात्रा
अष्टमी को देवी महा गौरी की पूजा की जाती है। इस दिन में मां को मोरपंख वाला हरा रंग पसंद होता है।

नवम नवरात्रा
नवरात्रि के नौवां दिन को नवमी भी कहा जाता है। इस दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। मां सिद्धिदात्री को जामुनी रंग पसंद है। इस दिन आप बैगनी रंग के कपड़े पहन कर मां की पूजा कर सकते हो।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।