सरसों के तेल के फायदे

सरसों का तेल हर घर में इस्तेमाल होता है। साथ ही यह तेल प्राचीन समय से आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। कड़वा तेल यानि सरसों के तेल में कई गुण हैं जो आपकी सेहत और उम्र दोनों को बेहद फायदा पहुंचाते हैं। सरसों का तेल दर्दनाशक होता है जो गठिया व कान के दर्द से राहत देता है इसलिए सरसों का तेल किसी औषघि से कम नहीं है। वैदिक वाटिका आपको सरसों के तेल के इन गुणों को एक-एक कर बताएगा। जिससे आपको सरसों के तेल का फायदा मिल सके।

सरसों के तेल के फायदे

 भूख बढ़ाना
जिन लोगों को भूख कम लगती है या भूख न लगती हो तो सरसों आपको फायदा दे सकती है। अपने खाने में सरसों के तेल का इस्तेमाल करें। क्योंकि यह तेल हमारे पेट में ऐपिटाइजर के रूप में काम करता है जिससे भूख बढ़ने लगती है।

वजन कम करना
जो लोग वजन बढ़ने की समस्या से परेशा हैं वे सरसों के तेल का इस्तेमाल करें। सरसों के तेल में मौजूद विटामिन जैसे थियामाइनए फोलेट व नियासिन शरीर के मेटाबाल्जिम को बढ़ाते हैं जिससे वजन आसानी से कम होने लगता है।

मलेरिया में

मलेरिया मच्छरों के काटने से होता है। ऐसे में सरसों का तेल रात को सोने से पहले अपने शरीर पर लगाकर सोएं।  इस उपाय से मलेरिया के मच्छर नहीं काटते हैं।

त्वचा को लाइट करना

नारियल तेल में सरसों के तेल को मिलाकर अपने चेहरे पर मालिश करें। यह त्वचा में खून का संचार करता है जिससे त्वचा का रंग लाइट होता है।

कान दर्द में
कान के दर्द में सरसों का तेल फायदा करता है। जब भी कान में दर्द हो तब गुनगुने सरसों के तेल को कान में टपकाएं।

मजबूत शरीर के लिए
सरसों के तेल का एक और फायदा यह है कि इस तेल को भोजन में इस्तेमाल करने से शरीर की इम्यूनिटी मजबूत होती है। जिससे शरीर के अंदर ताकत व मजबूती आती है।

गठिया दर्द में

सरसों के तेल में कपूर को पीसकर मिलाएं और फिर इसकी गठिया वाली जगह पर मालिश करें। यह गठिया दर्द में राहत देता है।

कमर दर्द में

कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए  सरसों के तेल में अजवाइनए लहसुन और थोड़ी से हींग को मिलाकर कमर की  मालिश करें। नियमित मालिश करने से कमर का दर्द ठीक हो जाएगा।

अस्थमा की रोकथाम
नियमित रूप से अस्थमा से परेशान लोगों को सरसों का तेल खाने में इस्तेमाल करना चाहिए। सरसों के बीज में मैग्नीशियम ज्यादा होता है। इसके अलावा यह तेल सर्दी और ब्रेस्ट में होने वाली परेशानियों को दूर करता है।

बढ़ती उम्र को रोके
सरसों के तेल में विटामिन ए, सी और के की अधिक मात्रा होती है जो बढ़ती हुई उम्र से होने वाले झुर्रिंयां यानि रिंकल और निशान आदि को दूर करती है। सरसों का  तेल एंटीआक्सीडेंट भी होता है। जिससे त्वचा टाइट बनी रहती है।

कैंसर को बढ़ने से रोके
सरसों के तेल में कैंसर को रोकने वाला गुण ग्लुकोजिलोलेट होता है। जो कैंसर के टयूमर व गांठ को शरीर में बनने से रोकता है साथ ही किसी भी तरह के कैंसर को शरीर पर लगने नहीं देता है।

लंबे बालों के लिए
सरसों के तेल से सिर पर मालिश करने से बाल तेजी से बढ़ते हैं। साथ ही यह खून के सर्कुलेशन को भी बढ़ाता है। सरसों का तेल बालों को पोषण देता है जिससे बाल झड़ने भी कम हो जाते हैं।

बालों के रंग के लिए
भूरे बालों से परेशान लोगों के लिए सरसों का तेल किसी दवा से कम नहीं है। सरसों का तेल नियमित लगाने से भूरे बाल काले होने लगते हैं। रात को सोने से पहले नियमित सरसों का तेल लगाएं। थोड़े ही दिनों में बालों का रंग काला होने लगेगा।

दांत दर्द में
दांत के दर्द में सरसों का तेल बहुत ही फायदेमंद होता है। यदि दातों में किसी प्रकार का दर्द हो रहा हो तो सरसों के तेल में नमक मिलाकर रगड़ें। आपको राहत मिलेगी। और दांत भी मजबूत बनेगें।

शरीर की क्षमता को बढ़ाता है
सरसों का तेल शरीर की क्षमता बढ़ाने में एक दवा का काम करता है। शरीर की कमजोरी को दूर करने के लिए और उसकी क्षमता को बढ़ाने के लिए सरसों के तेल की मालिश के बाद नहाने से त्वचा और शरीर दोनों स्वस्थ रहते हैं।

कोरोनरी हार्ट डिसीज से बचाता है
सरसों के तेल का नियमित इस्तेमाल करने से कोरोनरी हार्ट डिसीज का खतरा कम होता है। जिन्हें दिल की बीमारी की समस्या हो वे सरसों का तेल खाने में इस्तेमाल करें।

त्वचा के लिए सरसों का तेल
सरसों का तेल त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद है। सरसों के तेल में विटामिन ई की मात्रा अधिक होती है जो आपकी त्वचा को अल्ट्रावाइलेट किरणों से बचाती है।
शरीर को दे अंदरूहणी शक्ति
हमारे शरीर के लिए सरसों का तेल बेहद फायदेमंद है। इसे खाने में इस्तेमाल करने से शरीर की अंदरूहणी शक्ति बढ़ती है और यह शरीर को मजबूत बनाता है।
छोटे बच्चों के लिए सरसों के तेल का फायदा
बचपन से ही यदि आप बच्चे के शरीर पर सरसों के तेल की मालिश करते हो तो इससे बच्चे को कई फायदे मिल सकते हैं।
छोटे बच्चों की मालिश भी सरसों के तेल से करनी चाहिए। इससे बच्चों का शरीर मजबूत बनने के साथ उनकी लंबाई बढ़ती है।

लिप बाम

यदि लिप बाम से आपके होठों को कोई फायदा न मिल रहा हो तो आप सरसों के तेल को होंठों पर लगाएं। इससे होंठ मुलायम बनते हैं।

नियमित रूप से सरसों के तेल को चेहरे पर लगाने से चेहरे के पोर्स गहराई से साफ हो जाते हैं। क्योंकि सरसों का तेल शरीर में खून के सर्कुलेशन को बढ़ाता है। जो चेहरे पर चमक लाता है।

 फुन्सी या रैशेज और इन्फेक्शन

सरसों के तेल में मौजूद गुणों से त्वचा से जुड़ी हुई दिक्कतें जैसे रैशेज या फुन्सी आदि ठिक होती हैं। सरसों के तेल को त्वचा पर लगाने से चेहरे का रूखापनए डलनेस और जलन कम हो जाती है। इस तेल की मालिश करने से शरीर में इन्फेक्शन का खतरा भी नहीं होता है।

दर्द में दे राहत
दर्द चाहे जोड़ों का हो या फिर गठिया काए सरसों के तेल से मालिश करने से सभी तरह के दर्द से मुक्ति मिलती है। सर्दियों में ठंड़ की वजह से होने वाले जोड़ों के दर्द में सरसों के तेल को गुनगुना करके मालिश करने से दर्द में आराम मिलता है।

सरसों का तेल किसी औषधि से कम नहीं है। यह हमे कई बीमारियों से बचाकर हमारी सेहत को फायदे देता है। इसलिए हमें अपने दैनिक जीवन में सरसों के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।