मकोय के आयुवेर्दिक फायदे

health-benefits-of-solanum-nigrum

मकोय एक प्राकृतिक औषधि है जिसे कामोनी भी कहा जाता है। यह अलग.अलग राज्यों में अलग-अलग नामों से जानी जाती है। जैसे काकमाची, मको, गुड़ कामाई, कचमच, पीलूड़ी, चरगोटी और गजचेट्टू आदि। इसका फल सफेद रंग का होता है और पकने के बाद यह काला हो जाता है। मकोय फल बाग-बगीचों, नदी नालो के किनारे आदि जगहों पर अपने आप उगता है। बहुत ही कम लोग जानते होगें आखिर यह फल हमें क्या फायदे दे सकता है। मकोय का फल एक चमत्कारिक औषधि है जो कई खतरनाक बीमारियों को खत्म कर सकती है।

मकोय के गुण
मकोय भूख को बढ़ाने वाला होता है इसके अलावा यह फल …
गठिया,
बवासीर,
सूजन,
कोढ़,
दिल के रोग के अलावा आंखों की बीमारी, खांसी उल्टी और कफ आदि रोगों को ठीक करता है। जितनी भी भारत में स्वदेशी चिकित्सा हैं उनमें सूजन की समस्या को दूर करने में मकोय का प्रयोग होता है। लीवर की बीमारी, चर्म रोग और दस्त में मकोय का प्रयोग होता है। आइये जानते हैं आप कैसे मकोय का इस्तेमाल करके बच सकते हैं इन रोगों से ।

सूखी खुजली और चर्म रोग
त्वचा संबंधी रोग जैसे चर्म रोग और खुजली होने पर मकोय की पत्तियों  को पीसकर इसके पेस्ट का लेप लगाने से फायदा मिलता है। साथ ही आप मकोय के डंठलों की सब्जी भी खा सकते हैं।

पीलिया रोग में
पीलिया में मकोय का क्वाथ रोज पीने से यह रोग ठीक हो जाता है।

मुंह में छाले होने पर
यदि मुंह में छाले हो गए हों तो आप परेशान न हों। मकोय के चार पत्ते लें और उन्हें मुंह में चबाएं। इससे जल्दी ही आपके छाले ठीक हो जाते हैं।

चर्म रोग में
चर्म रोग की समस्या होने पर मकोय के रस को निकालें और उसकी अपनी त्वचा में मालिश करें।

खूनी बवासीर होने पर
खूनी बवासीर में मकोय के पत्तों का एकदम ताजा रस कम से कम दस ग्राम की मात्रा में पीयें।

मूत्राशय और गुरदे की सूजन
रोज मकोय के पत्तों से बना रस दस मि ली पीने से गुरदे और मूत्राशय की सूजन ठीक होती है।

उल्टी की समस्या
यदि उल्टी लगातार हो रही हो तो सुहागा को मकोय के रस में मिलाकर सेवन करें। उल्टी बंद हो जाएगी।

बुखार होने  पर
बुखार होने पर आप मकोय का काड़ा बनाकर पीयें। इससे आपका बुखार जल्दी ठीक हो जाएगा।

चेचक रोग में
चेचक होने से चेहरे पर दाने निकल जाते हैं। यदि समय पर उपचार न मिलें तो यह चेहरे पर दाग छोड़ देते हैं। इसके उपचार के लिए मकोय से निकलने वाले क्वाथ को पीने से चेचक निकल जाती है।

त्वचा पर लाल चकते होना
त्वचा पर लाल चकते दूर करने के लिए मकोय के पत्तों का रस लगाना चाहिए।

खराब दांत बिना दर्द के निकालना
खराब दांतों को बिना दर्द के बाहर निकालने के लिए किसी भी तेल या घी में मकोय के पत्तों का रस मिलाकर मूसड़ों और दांतों पर लगाने से खराब दांत बाहर निकल जाता है।

कुत्ते के काटने पर
कुत्ते के काटने के विष को खत्म करने के लिए मकोय का रस पी लेना चाहिए। इससे कुत्ते का विष उतर जाता है और घाव भी जल्दी भर जाता है।

नींद न आने की समस्या
जिन लोगों को नींद न आने की समस्या हो वे गुड़ के साथ मकोय की जड़ का रस मिलाकर रात को सोने से पहले सेवन करें।

चूहे का विष
चूहे का विष बहुत खतरनाक होता है। इस विष को खत्म करने में मकोय एक मात्र आयुवेर्दिक उपचार है। मकोय का रस निकालकर मालिश करने से चूहे का विष उतर जाता है।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।