लेप्टोस्पोरोसिस वायरस से बचाव

एक बार फिर से नया खतरनाक वायरस लेप्टोस्पोरोसिस फैलने लगा है। अब तक इस बीमारी की काफी कम ही जानकारी मिली है। लेकिन यह वायरस तेजी से फैल रहा है। हाल ही में एक अखबार में प्रकाशित लेख में इस वायरस से ग्रसित 6 लोगों की मौत की बात सामने आई है। और 47 अभी भी इसकी चपेट में है। ये वायरस क्या है और कैसे फैलता है और इससे कैसे बचा जाए ये जानकारी आपके लिए बेहद जरूरी है ताकि समय रहते इस वायरस से बचा जाए।

लेप्टोस्पोरोसिस (Leptospirosis) वायरस क्या है और यह कैसे फैलता है। यह जानना बेहद जरूरी है।
यह वायरस कुत्ता, घोड़ा, लोमड़ी, चूहा आदि जानवरों के मल-मूत्र से फैलता है। ये वायरस इंसान के शरीर में संक्रमित पानी पीने से, संक्रमित खाना खाने, आंख, मुंह और नाक के साथ चोट लगने से फैलता है। जब त्वचा संक्रमित मिट्टी के संपर्क में आती है तब यह शरीर को सीधे प्रभावित कर सकता है।
वे लोग जो पशुओं के विक्रेता, खेत में काम करने वाले, जानवरों के डाक्टर, सफाई कर्मचारी और मजदूरों हैं उनको इस रोग की संभावना अधिक हो सकती है।

लेप्टो के लक्षण
1. आंख, नाक से पानी निकलना
2. सिरदर्द
3. आंखों का लाल होना और दर्द रहना
4. बुखार आना
5. उल्टी होना
6. ठंड लगना
7. गर्दन में जकडन और दर्द
8. पैरों में दर्द रहना
9. पेट में दर्द होना

यह रोग सीधे किडनी और लीवर को प्रभावित करता है।

लिप्टो से बचने के उपाय
1. गंदे पानी में व कीचड़ में पैर न रखें। पैरों की उंगलियों के बीच साफ कपड़े से सफाई करें।
2. बारिश के पानी में यह कीटाणु मिले रहते हैं इसलिए जब भी पैर गंदे पानी में चला जाए तुरंत उसे साफ पानी से धो लें।
3. साबुन से अच्छे से हाथ और पैरों को धोएं।
4. जूतों और चप्पलों को भी साफ कपड़े से साफ करके ही पहनें।
5. यदि चोट व खरोच लग गई हो तो उसे अच्छे से साफ करके मलम पट्टी कर लें।

लेप्टोस्पोरोसिस के लक्षणों का पता चलते ही खून की जांच की जा सकती है। और डाक्टर शुरूआती लक्षणों का पता लगाकर कुछ दवाईयां भी दे सकता है। इस वायरस से तभी बचा जा सकता है जब शुरूआती लक्षणों का पता लगते ही इलाज शुरू हो जाए।

जानकारी ही सबसे बड़ा बचाव है। इसलिए वैदिक वाटिका आप तक हर एैसी खतरनाक बीमारी के बारे में जानकारी और उनसे बचने के कारगर उपाय आप तक पहुंचाता रहेगा। ताकि आप और आपका परिवार किसी भी खतरे से बच सकें।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।