कलाई में दर्द – कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

कलाई में दर्द के कारण, लक्षण, घरेलू उपचार और योग, kalai mein dard ke lakshan, karan, ghrelu upay aur yoga tips hindi me

आज हम कलाई में दर्द के बारे में बात करेंगें। अक्सर लोग अधिकतर समय तक कंप्यूटर या लैपटॉप पर काम करते हैं जिसके कारण उनकी अंगुलियों में दबाब पड़ता है। जिसके कारण में भी दर्द होने लगता है। कलाई में दर्द एक आम बात है लेकिन जब भी कलाई में दर्द होता है तब हम अपना कोई भी काम नहीं कर पातें  और न ही किसी प्रकार का कोई वजन उठा सकते हैं।

जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ने लगती है वैसे ही हमें डायबिटीज का खतरा होने लगता है जिसके कारण हमारी कलाई की मांसपेशियां कमजोर होने लगती है। ऐसे में यदि अंगूठे से अधिक कार्य किया जायें तो संघर्ष के कारण हमें तेज दर्द होता है और फिजियोथेरेपी से इसमें लाभ मिलता है। आइये जानते है कलाई में दर्द के कारण और उपचार के बारे में

कलाई में दर्द के कारण

जब कभी भी शरीर में किसी भी प्रकार का दर्द होता है तब उस दर्द को सहन करना कोई आसान बात नहीं है उस दर्द के कारण हमें बहुर तकलीफ सहनी पडती है। लेकिन बात जब कलाई में दर्द की आती है तो हमें बहुत ही परेशानी का सामना करना पड़ता है क्योंकि जब भी कलाई में दर्द हो तब हम काम करने में असमर्थ हो जाते हैं इसके मुख्य कारण कुछ इस प्रकार से है :-

  • कंप्यूटर के माउस का ज्यादा उपयोग,
  • टाईपिंग,
  • गोल्फ खेलना,
  • पियानो बजाना,
  • सिलाई करना,
  • लिखना,
  • भारी सामन उठाना,
  • कैंची का अधिक उपयोग,
  • लम्बे समय तक बाइक चलाना,
  • हाथ में चोट लगना आदि |

कलाई में दर्द के लक्षण

  • अंगुठे के पिछले हिस्से में दर्द होना,
  • कलाई के बाहरी भाग में दर्द व् सूजन होना,
  • हल्की हल्की या अचानक से दर्द होना,
  • अंगूठा पर दबाब पड़ने से दर्द होना,
  • वस्तु पकड़ने में दर्द आदि।

कलाई के दर्द को दूर करने के घरेलू उपाय

  1. सही भोजन का सेवन –

जब भी हमें दर्द का सामना करना पड़े तब इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि जिन वस्तुओं का हम सेवन कर रहें हैं वो हमारे लिए उपयुक्त है उस समय हमें कुछ ऐसी वस्तुओं का सेवन करना चाहिए जैसे कि-

  • हरी पत्तेदार सब्जियां, विटामिन सी और विटामिन ई जिनमें एंटीऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा होती है जिसका सेवन करने से दर्द और सूजन में राहत मिलती है। विटामिन सी के स्त्रोत अजमोदा, ब्रोकोली, संतरे, स्ट्राबेरी, पपीता, फूलगोभी और केले होते हैं, और विटामिन ई के स्त्रोत सरसों का साग, सूरजमुखी के बीज, बदाम, और पालक होते हैं।
  • ओमेगा 3 फैटी एसिड जोड़ो के दर्द और सूजन में सहायता करने वाले आहार है मछली, अखरोट और जैतून के तेल।
  1. कलाई को ऊपर उठा कर रखें –

कलाई में दर्द होने पर इसे आराम देना चाहिए जितना हो सकें इसे उपर उठा कर रखना चाहिए।

  1. बर्फ का इस्तेमाल –

यदि आपकी कलाई में सूजन या दर्द बहुत ज्यादा हो रही हो तो ऐसे में आपको बर्फ का इस्तेमाल करना चाहिए इससे आपकी सुजन के साथ साथ आपका दर्द भी कम हो जाता है

  1. गर्म पानी का इस्तेमाल –

गर्म पानी से स्नान या शावर के बाद व्यायाम करें ताकि आपकी कलाई जकडन मुक्त हो।

  1. व्यायाम न करें –

अगर कलाई में सूजन अधिक हो तो व्यायाम नहीं करना चाहिए।इससे आपकी सुजन बढ़ सकती है

कलाई के दर्द को दूर करने वाले योग

कलाई के दर्द को दूर करने वाले कुछ योग इस प्रकार से हैं –

  • हैण्डकफ :- कलाई को उसके विपरीत अंगूठे और तर्जनी से गोलाकार करके पकड़े और 3-5 सेंकड तक उसे जोर से दबाएं। इससे आपको दर्द से राहत मिलेगी।
  • कलाई को घुमाना :- सबसे पहले अपनी हथेली को सीधा करके फैलाएं और फिर कलाई को गोल गोल करके घुमाएं। यह दर्द कम करने का सबसे अच्छा तरीका है।
  • विपरीत प्रार्थना :- अपनी पीठ को तरफ अपने हाथों को नमस्कार मुंद्रा में रखें, उंगलियों को ऊपर न करके नीचें की तरफ रखें, जब तक आपको आराम महसूस हो तब तक इसी मुंद्रा में रहें।
  • प्रार्थना मुंद्रा :- सबसे पहले अपने दोनों हाथो को नमस्कार की मुंद्रा में रखें, अपने हाथों को एक साथ रखकर हल्का सा दबाव डालें। इससे आपकी दर्द कम हो जाएगी।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।