जैसा अन्न वैसा मन – रोचक तथ्य

जिस तरह से हाल ही में भारत में देशद्रोही नारों का माहौल बना है उससे भारत की छवी पर गलत असर पड़ा है। ये सब बातें बेहद गंभीर हैं। आज का युवा जिस तरह  से खान-पान का सेवन कर रहा है उससे उसके दिमाग में भी असर पड़ता जा रहा है। प्राचीन आयुर्वेद में कहा गया है कि जैसे खाओ अन्न वैसा होगा मन। आजकल के युवाओं को जरूरत है कि वे अपने खान-पान में कुछ ऐसी चीजों को शामिल करे जिससे दिमाग शांत रहे और वह समाज और देश को अपने अच्छे विचार दे सके। वैदिक वाटिका आपको बता रही है किन चीजों को खाने से दिमाग में उर्जा आती है। और हर युवा को इन चीज़ों का सेवन करना चाहिए।

केला

केला में मौजूद गुण शरीर के मेटाबोल्जिम को बढ़ाते है जो सीधा दिमाग पर असर डालता है। यदि रोज एक केला खाए जाए तो यह दिमाग में रक्त संचार को ठीक तरह से प्रभावित करता है। जिससे इंसान के विचारों में सादगी और उर्जा आती है।

 

बादाम

बादाम भी हर युवाओं को अपनी डायट में शामिल करना चाहिए। बादाम दिमाग को तेज करता है और वह आपके विचारों को सकारात्मक बनाता है। जिससे दिमाग शांत रहता है। और विचार भी बदलते हैं।                       ये भी पढे-कुलथी के फायदे – पथरी का इलाज

चने

युवाओं को चाहिए कि वे रोज अंकुरित चनों का सेवन करें। चनों को खाने से शरीर और दिमाग दोनों तेज होते हैं। यदि प्रतिदिन युवा चने खाएंगे तो शरीर में हर बात को सोचने समझने की क्षमता बढ़ेगी। चना खाने से रचनात्मक विचार आते हैं।

 

गन्ना

जब भी दिमाग में कुछ गलत सोच आ रहे हों तो गन्ना चूसे या चबाएं। इस तरह दिमाग थोड़ी देर में शांत हो जाता है।

 

कम नमक और सादा भोजन

आप खाने में नमक का कम इस्तेमाल करें। और जितना हो सके अधिक मिर्च मसालों का प्रयोग करना बंद कर दें। जितना कम मिर्च मसालों और नमक का सेवन करोगे उतना ही दिमाग शांत रहेगा और विचारो में भी नयापन आएगा।

इन सभी उपायों को हर युवाओं को करना चाहिए। जिससे दिमाग तेज और सकारात्मक बनेगा। जिससे से हर युवा अपना मन देश की प्रगती और उन्नती की तरफ लगाएगा।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।