चश्मा उतारने का उपाय

अधिकतर आजकल यह देखा जा रहा है बड़े ही नहीं बच्चों को भी चश्मा कम उम्र में लग रहा है। आंखों के कमजोर होने व चश्मा लगने की मुख्य वजह है आंखों की देखभाल न करना। वैसे तो यह समस्या अनुवांशिक भी हो सकती है। लेकिन कुछ घरेलू उपायों के जरिए चश्मा हटाया जा सकता है। इसलिए वैदिकवाटिका आपकी आंखों की कमजोरी को दूर करने के वैदिक घरेलू नुस्खों को बता रही है।

आंखों की कमजोरी को दूर करने के उपाय

  • आंवले के पानी में थोड़ा गुलाबजल मिलाकर आंखों को धोने से आंखों की कमजोरी दूर होती है। आप आंवले के पानी से भी आंखों को धो सकते हो।
  • रात को सोने से पहले सरसों के तेल से पैरों की तलवों की मालिश करें। इसके बाद सुबह हरी घास पर नंगे पैर चलें। और अनुलोम-विलोम प्राणायाम करें। एैसा करने से कुछ महीनों मे आंखों की कमजोरी खत्म होती है।
  • रात को 8 बादाम भिगोकर सुबह पीस लें और इस पीसे हुए पेस्ट को पानी के साथ मिलाकर पी जाएं। एैसा करने से आंखों से पानी गिरना और कमजोरी दूर होती है।
  • गुलाबजल और नींबू का रस बराबर मात्रा में मिला लें। और इसे हर एक घंटे में आंखों में डालें। यह आंखों में ठंठक देता है।
  • रात को पानी में त्रिफला के चूर्ण को भिगों लें और सुबह इस पानी से आंखों को धोने से आंखों की रोशनी बढ़ती है।
  • एक गिलास पानी में एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीते रहने से ताउम्र आंखों की रोशनी कमजोर नहीं होती है।
  • गन्ना और केला दोनों ही आंखों के लिए फायदेमंद है। इसलिए इनका सेवन जरूर करें।
  • रतौंधी जैसी घातक आंखों की बीमारी से बचने के लिए 20 मिलीलीटर बेलपत्र का रस पीना चाहिए। या इसके रस की 3 बूंदे आंखों में डाल सकते हो।
  • कानों के पास वाले हिस्से यानि कनपटी पर गाय के घी से हल्के हाथों से मालिश करें। एैसा करने से भी आंखों की कमजोरी दूर होती है।

इन उपायों का नियमित इस्तेमाल करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। आपके परिवार या दोस्तों में किसी को भी चश्में लगे हों उसे वैदिकवटिका के इन उपायों को जरूर बताएं।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।