घर पर ही बनायें वैदिक शैंपू

प्राचीन समय में बालों को साफ और सुंदर बनाने के लिए महिलायें और पुरूष वैदिक लेपों का प्रयोग करते थे। जिसकी वजह से बाल लंबें समय तक मजबूत, घने और मुलायम बने रहते थे। आज हम आपको बताते हैं प्राचीन वेदों में प्रयोग किये जाने वाले वैदिक लेपों को कैसे तैयार करें और किस तरह इनका इस्तेमाल करें। ये प्राकृतिक लेप यानी शैंपू को आप अपने घर पर बना सकते हो और यह शैंपू पूरी तरह प्राकृतिक है।

1. नारंगी का शैंपू सामग्री-

1 चम्मच ताजा नारंगी का रस और 1 अंडा। कैस प्रयोग करें- नारंगी के रस में अंडे को अच्छी तरह से मिला लें और इसे बालों पर लगायें फिर 15 से 20 मिनट तक बालों पर रहने दें और बालों को धों लें।

2. एलोवीरा का शैंपू सामग्री-

एलोवीरा के पौधे का एक टुकड़ा और 1 कप पानी। कैसे प्रयोग करें- एलोवीरा को छीलकर उसका रस निकाल लें फिर उसे 1 कप पानी में मिलाकर पेस्ट तैयार करें फिर इसे आधे घंटे तक रहने दें और इस पेस्ट को अपने बालों पर लगाकर 15 मिनट तक रखें और बाद में बालों को ठंठे पानी से धो लें।

3. अंडे का शैंपू सामग्री-

2 अंडे और 1 कप पानी। कैसे प्रयोग करें- पानी को गरम करें और उसमें अंडे को फेंट लें और इस मिश्रण को कपड़े से छानकर बालों पर लगाएं और आधे घंटे बाद बालों को धो लें।

4. आंवला का शैंपू सामग्री-

1 लीटर पानी, आंवला 100 ग्राम, सूखा रीठा 100 ग्राम, शिकाकाई 100 ग्राम। कैसे प्रयोग करें- आंवला, सूखा और शिकाकाई को रात को पानी में भिगोकर रखें लें और सुबह इसे उबाल लें फिर ठंड़ा होने पर इसे छानकर बालों पर लगालें।

5. फूल और पत्तियों का प्राकृतिक शैंपू सामग्री-

पुदीने की पत्तियां, गुलाब के फूल की पंखुडियां, मेंहदी, तुलसी के पत्ते और गेंदा का फूल। कैसे प्रयोग करें- सभी फूलों और पत्तियों को थोड़े से पानी में डालकर उसे पीस लें और इसका पेस्ट तैयार कर लें और फिर इस पेस्ट को बालों की जड़ों पर लगाकर 1 घंटे के बाद ठंठे पानी से धो लें। इन प्राकृतिक उपायों को आप करते हैं तो इससे आपके बाल मजबूत और घने बने रहेगें।
 
  
 
  
 

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।