मर्स वायरस से कैसे बचें

एक बार फिर इबोला की तरह एक खतरनाक रोग मर्स पूरी दुनिया में फैला रहा है। ये वायरस है एमईआरएस यानि मिडिल ईस्ट रेसपिरेटरी सिंड्रोम। यह वायरस सबसे पहले साउदी अरब में 2012 में सामने आया था। लेकिन अब यह धीरे-धीरे सारे देशों में फैल रहा है। इसलिए जानकारी ही बचाव है। एमईआरएस वायरस के लक्षणों के बारे में भी जानना जरूरी है। इस वायरस से शरीर में बुखार, कफ, खांसी और पाचन तंत्र का कमजोर होना और सांस लेने में तकलीफ आदि होना इस वायरस के मुख्य लक्षण हैं। इस रोग में इंसान की जान भी जा सकती है। मर्स वायरस से अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है।(mers virus in hindi)

वैज्ञानिकों ने इस बात को बताया है कि इस वायरस का सबसे ज्यादा खतरा भारत को बना हुआ है। साथ ही वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि मध्य ऐशिया में लाखों लोग इस वायरस की चपेट में आ सकते हैं। अभी इस वायरस की रोकथाम भारत में नहीं है। भारत में इस वायरस के फैलने की मुख्य वजह है यह है कि इस साल हज जाने वाले यात्री पहले के मुकाबले अधिक हैं। और भारत से मध्य एशिया जाने वाले यात्री भी अधिक हैं।

डब्लूएचओ में भी मर्स वायरस से बचने के लिए वैक्सीन बनाने के लिए अभी रिसर्च चल रहा है।

बचाव
1- खांसते और छींकते वक्त मुंह पर रूमाल रखें।

2- हाथों को अच्छी तरह से साबुन से धोएं।

3- इस वायरस से संक्रमित लोगों के पास जाने से बचें।

4- भीड़ भाड वाली जगह जाने से बचें।

5- आंख और मुंह को हाथ धो कर ही स्पर्श करें।

यात्रा के लिए चेतावनी
जहां तक हवाई यात्रा का सवाल है तो इस बात को बताया गया है की जोर्डन, कतर, रिपब्लिकन कोरिया, साउदी अरब और अरेबियन पेनुसूला जाने से फिलहाल, यात्रा न की जाए तो बेहतर है।

मर्स वायरस के बारे में जानकारी ही बचाव है और अभी इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है। इसलिए जहां तक हो आप फिलहाल इस रोग से बचने के लिए इन देशों में जाने से बचें।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।