चंदन कैसे ला सकता है अपके चेहरे में निखार

चंदन प्राकृतिक लकड़ी है भारत में चंदन का इस्तेमाल पुराने समय से पूजा पाठ और देवों को खुश करने के लिए किया जाता रहा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि चंदन आपकी त्वचा में एैसा निखार ला सकता है कि उसे आजकल की क्रीम्स भी इतनी प्रभावशाली नहीं हो सकती हैं। चंदन सौंदर्य और स्वास्थ्य दोनों के लिए लाभदायक है। आइए आपको बताते हैं चंदन के फायदे जो आपकी त्वचा को सुंदर और चमकता दमकता बना सकती है।
 
 चंदन के गुणः-
 
1. चंदन में प्राकृतिक गुण समाहित होते हैं इसलिए चंदन के लेप को चेहरे पर लगाने से आपकी खूबसूरती बढ़ती है।
 
2. चंदन का इस्तेमाल नियमित रूप से करने से आपकी त्वचा मुलायम और जवां रहती है।
 
3. 1 चम्मच चंदन के तेल में, 1 कप नारियल तेल को मिलकर एक डिब्बे में रख लें, और नहाने के बाद इस तेल से अपनी त्वचा की मालिश करें एैसा करने से आपकी त्वचा में कसाव आता है।

 
4. चंदन का लेप लगाने से कीलमुहांसे पूरी तरह से ठीक हो सकते हैं।

 
5. चंदन लेप आपकी स्किन को साफ कर उसको नमी प्रदान करता है।

 
6. चंदन तेल का स्प्रे शरीर में ठंडक प्रदान करता है।

 
7. चंदन पउडर में पानी मिलाकर अपने पसीने वाले अंगों में लगाने से पसीना कम आता है।

 
8. नारियल पानी में कच्चा दूध, नींबू का रस, बेसन और चंदन पाउडर मिलाकर लेप तैयार करें और नहाने से 1 घंटे पहले त्वचा पर लगाने से अपका चेहरा चमकदार और साफ रहेगा।

 
9. चंदन में प्राकृतिक गुण होते हैं जो आपकी त्वचा को सुंदर एंव जवां बनाए रखने में सहायक होते हैं।

 
10. चंदन का लेप लगाने से आप सूर्य की किरणों से होने वाले हानिकारक प्रभावों से बच सकते हैं।

 
11. चंदन के तेल की 3-4 बूंदें नहाने की बाल्टी में डालकर रोज स्नान करने से आपकी त्चचा को संरक्षण परत मिलती है जो आपको बहारी कीटाणुओं से सुरक्षा प्रदान करती है।

 
12. चंदन पाउडर में गुलाबजल या दूध मिलाकर लगाने से चेहरे से काले धब्बे व निशान हट सकते हैं।
 
  
 
  
 
  

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।