गुलाब के फूल के उपयोग

गुलाब बेहद सुंदर और खुशबूदारध पौधा है जो अपने इन गुणों की वजह से सभी लोगों को अच्छा लगता है। लेकिन क्या आपको पता है यह पौधा अपने औषधीय गुणों के लिए भी जाना जाता है। गुलाब का पौधा व गुलाब का फूल पूरे भारत में मिलता है। यह फूल विटामिन सी से भरपूर होता है। साथ ही साथ गुलाब के फूलों का रस खून को साफ भी करता है। गुलाब का शर्बत दिमाग को शीतल और शक्ति देता है। आयुर्वेद में गुलाब को महाकुमारी, शतपत्री व तरूणी आदि नामों से जाना जाता है।

वैदिक वाटिका आपको बताएगा गुलाब के एैसे उपयोग जो शायद ही आपको पता हो।यू तों गुलाब आंखों के लिए, जलन और मुंख संबंधी कई विकारों को दूर करता है। फिटकरी में गुलाबजल को मिलाकर इस्तेमाल करने से कई रोग खत्म होते हैं। विटामिन सी की कमी को दूर करने के लिए गुलकंद एक बेहद उपयोगी दवा का भी काम करती है।

गुलाब के फायदे
1- कान में दर्द होने पर गुलाब की पत्तियों के रस की थोड़ी बूंदे कान में डालने से कान के दर्द में राहत मिलेगी।
2- गुलाब के अर्क में नींबू का रस मिलाकर दाद पर लगाने से दाद ठीक हो जाता है।
3- जी मिचलाना, गले में जलन, सीने में जलन जैसे रोगों को दूर करने के लिए 1 कप गुलाबजल, चैथाई कप संतरे का रस और चौथाई कप चूने का पानी को मिलाकर दिन में 2 बारी सेवन करें आपको इन रोगों से निजात मिल जाएगा।
4- शरीर में जलन होने पर या हाथ पैर में जलन होने पर गुलाबजल को चंदन में मिलाकर इसका लेप लगाएं।
5- खाना खाने के बाद गुलकंद खाने से हाजमा ठीक रहता है।
6- मुंह की बदबू को दूर करने के लिए गुलाब के फूल, लौंग और चीनी को गुलाब जल में पीसकर गोलियां बनाकर चूसें। यह मुंह की दुर्गंध को दूर करता है।
7- चंदन के तेल में गुलाब के अर्क को मिलाकर मालिश करने से शीत पित्त में फायदा मिलता है।
8- सनाय की पत्ती को गुलकंद के साथ सेवन करने से कब्ज दूर होती है।
9- अत्याधिक गर्मी लगने पर या जलन होने पर 5 इलायची, 10 ग्राम गुलाब की पंखुड़ी, 5 काली मिर्च और 10 ग्राम मिश्री को पीसकर हर चार घंटे पर पीएं। आपको आराम मिलेगा।
10- सफेद चंदन पाउडर में कपूर और गुलाब जल को मिलाकर माथे पर लगाने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है।
11- मुंह के छालों से निजात पाने के लिए सुबह-सुबह गुलकंद का सेवन करें।
12- लू लगने पर ठंडे पानी में गुलाबजल मिलाकर माथे पर पट्टी रखें।
13- टीबी की बीमारी से होने वाली कमजोरी को दूर करने के लिए गुलकंद का नियमित सेवन करने से कमजोरी ठीक हो जाती है।
14- माइग्रेन के दर्द में 12 ग्राम गुलाबजल में 1ग्राम असली नौसादर को मिलाकर अच्छे से मिला कर हिलाएं। और इसकी चार-पांच बूंदे नाक के अंदर खीचें। एैसा करने से माइग्रेन का दर्द ठीक हो जाता है।

गुलाब घर की शोभा को भी बढ़ाता है साथ ही आपकी सेहत के लिए तो बेहद उपयोगी फूल है। इसलिए आप गुलाब से बनी चीजों का इस्तेमाल करके कई रोगों से भी बच सकते हो। वैदिक वाटिका आपको हर एैसी उपयोगी चीजे के बारे में बताता है जिससे आप और आपका परिवार हमेशा बीमारी से दूर रहे।

ये भी पढ़ें-थकान दूर करने के उपाय

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।