जमीन पर बैठकर खाने के फायदे

जैसे जैसे जमाना बदला वैसे ही इंसान की आदतों में बदलाव आ गया है। इन आदतों में से एक आदत है खाना खाने का तरीका। आजकल सभी लोग डायनिंग टेबल पर खाना ज्यादा पसंद करते हैं। और इसके लिए खास जगह भी बनाई जाती है। लेकिन ये बात कम ही लोग जानते हैं की जमनी पर खाना खाने से कई तरह के फायदे मिलते है जो आपको कई रोगों से मुक्त बनाते हैं। प्राचीन समय से ही हमारे देश में नीचे बैठकर खाने की परंपरा रही है। वैदिक वाटिका आपको बताएगा जमीन पर बैठकर खाने के क्या फायदे होते हैं।

जमीन पर बैठकर खाने के फायदे

जोड़ों की समस्या को करे दूर
जमीन पर बैठकर खाना खाने से कूल्हे के जोड़, घुटने और टखने लचीले बनते हैं। इस लचीलेपन से जोड़ों की चिकनाई बनी रहती है जो आगे चलकर उठने-बैठने की दिक्कत को आने नहीं देता है और हड्डियों के रोग जैसे आस्टियोपोरोसिस और आर्थराइटिस की समस्या से भी आपको बचाता है।

दिमाग को बनाए स्वस्थ
जब भी हम जमीन पर बैठते हैं तो यह एक तरह का आसन बन जाता है जिसे सुखासन कहा जाता है। यह आसन इंसान को तनाव से मुक्त बनाता है और दिमाग को तेज बनाता है।

बनाए शरीर को लचीला
जमीन पर बैठने से पीठ और पेट के आसपास की मांसपेशियों में खिचाव आता है। और रोजाना जमीन पर बैठकर खाना खाने से शरीर लचीला बनता है।

दिल को ताकत दिलाए
जमीन पर बैठकर खाना खाने से हार्ट अटैक की संभावना नहीं होती है। बैठकर खाने से खून का संचार शरीर में आसानी से होता है। खाना जब जमीन पर बैठकर खाया जाता है तब खून का संचार दिल तक आसानी से होता है। डायनिंग टेबल पर बैठकर खाना खाने से खून पैरों की तरफ होता है जबकी पैरों को उनकी जरूरत ही नहीं होती है।

बचाए ओवरईटिंग से
सुखासन में बैठकर खाना खाने से आप अधिक खाना खाने से बचते हो। जिससे आपका वजन नहीं बढ़ता है। नीचे बैठकर खाना खाने से खाने पर ध्यान अधिक रहता है। जिससे दिमाग भी शांत रहता है। साथ ही दिमाग जल्दी से यह एहसास भी करा देता है की पेट भर गया है।

पाचन को ठीक रखने में सहायक
पालथी मारकर बैठने में पैरों को क्रास करके जमीन पर बैठा जाता है यह योगासन भी है। यह आसन खाने को अच्छे से पचाता है और दिमाग को खाना पचाने के संकेत देता है।

नीचे बैठकर खाना खाते समय भोजन का निवाला उठाते वक्त आगे की ओर झुकना पड़ता है और फिर उसे निगलने के बाद पहले वाली पोजिशन में आना पड़ता है। एैसा बार-बार करने से पेट की मांसपेशियां सक्रिय हो जाती हैं और खाना तेजी से पचने लगता है और इस तरह पाचनतंत्र अधिक तेजी से काम करता है।

कैलोरी कम करता है
यह स्वभाविक है कि जब भी जमीन पर बैठकर खाया जाता है तब खाना धीरे-धीरे खाया जाता है और कम मात्रा में खाने का सेवन होता है जो कि शरीर के लिए उत्तम होता है। साथ ही कम खाने से कैलोरी का सेवन भी कम हो जाता है।

जमीन पर बैठकर खाने से इंसान की उम्र भी लंबी होती है। हाल ही में हुए एक शोध में यह बात कही गई है कि जमीन पर बैठकर खाना खाने के बाद इंसान बिना किसी का सहारा लिए उठ जाता है और इस क्रिया से शरीर मजबूत और लचीला बनता है और इंसान की उम्र बढ़ती है। ये भी पढे-शराब पीने के फायदे और नुकसान

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।