पुदीने के लाभ

बससात हो या गर्मी, पुदीना स्वाद और सौंदर्य देने वाली अहम प्राकृतिक बूटी है। यह पूरे साल मिलने वाली खूशबूदार औषधी है। जो कई प्रकार के रोगों से इंसान के शरीर को बचाती है। पुदीना में मौजूद एंजाइम शरीर को कैंसर, सिरदर्द, गठिया, पेट दर्द और खांसी में बचाते हैं। इसी वजह से पुदीना आयुर्वेद में कई दवाइयों को बनाने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। पुदीने को संस्कृत में पूतिहा और अंग्रजी में मिंट कहा जाता है। पुदीने की पत्तीयों में विटामिन ए, बी, सी, डी और ई, के साथ कैल्शियम, फास्फोरस और आयरन की प्रचूर तत्व मौजूद होते हैं।

पुदीने के एैसे फायदे जो आपको निरोग बनाने के लिए वैदिक वाटिका में दिए गए हैं।

कैसे करें पुदीने का इस्तेमाल अलग-अलग रोगों में

मुंह संबंधी बीमारियों के लिए
1- पुदीने की पत्तीयों को गर्म पानी में उबालकर उसे ठंडा कर लें और इसे छानकर इस पानी से कुल्ला करें। एैसा करने से मुंह में कभी बदबू नहीं आती है।
2- दांतों और मसूड़ों के सभी तरह की परेशानियों को दूर करने के लिए प्रतिदिन पुदीने की पत्तीयों को चबाएं। क्योंकि पुदीने की पत्तीयां एंटीसेप्टिक की तरह काम करती है।

मच्छरों और कीड़े के काटने से बचाए
पुदीने में कीटाणु खत्म करने के गुण होते हैं। इसलिए पुदीने के तेल के छिड़काव करने से मच्छर, मक्खी और मकड़ी व कीटाणु खत्म हो जाते हैं। ततैया, बिच्छु व किसी कीड़े के काटने पर पुदीने के पत्तों को पीसकर उसका लेप लगाएं। ये प्राथमिक उपचार के लिए फायदेमंद होता है।

गले की परेशानी दूर करता है
गले को स्वस्थ रखने के लिए नमक के साथ पुदीने का काढ़ा बनाकर गरारे करने से गले की सारी दिक्कते दूर होती हैं।

चेहरे की दिक्कते दूर करता है
1. आंखों के नीचे का कालापन दूर करने के लिए पुदीने की पत्तियों को पीसकर उसका लेप आंखों के नीचे लगाएं।
2. गुलाबजल, पुदीने की पत्तियों और नींबू रस को मिलाकर चेहरे पर लगाने से मुहांसे हट जाते हैं।
3. त्वचा यदि झुलस गई हो तो पुदीने की सूखी पत्तियों को पानी में डालकर नहाने से त्वचा ठीक होती है।

 

खांसी व बुखार से दिलाए निजात     

खांसी होने पर शहद के साथ थोड़ा अदरक का रस और थोड़ा पुदीने का रस मिलाकर सेवन करने से खांसी ठीक हो जाती है। बुखार व न्यूमोनिया में शहद के साथ पुदीने का रस मिलाकर सेवन करने से फायदा मिलता है।

हिचकी आने पर
हिचकी यदि बंद न हो रही हो तो यह खतरनाक भी हो सकती है इसलिए शक्कर के साथ पुदीने की पत्तियों को चबाकर सेवन करें।

कफ दूर करने में असरदार
फेफड़ों व छाती पर जमा कफ को दूर करने के लिए अंजीर को पुदीने के पत्तों के साथ पीसकर सेवन करें। कुछ दिनों में जमा कफ दूर हो जाएगा।

मुंह के छालों को दूर करे
मुंह के छालों को दूर करने के लिए पुदीने को पीसकर उसके लेप को रूई के जरिए मुंह के छालों पर लगाएं। या फिर पुदीने के रस से कुल्ला करने से भी मुंह के छालों से मुक्ति मिलती है।

कान की परेशानी से दिलाए निजात
पुदीने का इस्तेमाल कानों के लिए भी लाभदायक होता है। पुदीने के रस को कान में डालने से कान के कीड़े साफ हो जाते हैं।

महिलाओं की मासिक दिक्कतों को दूर करता है
महिलाओं को पुदीने का नियमित सेवन करना चाहिए इससे थोड़े ही दिनों में मासिक धर्म में होने वाली परेशानीयां दूर होती हैं।

रक्तचाप को नियंत्रित रखे
पुदीने का नियमित इस्तेमाल करने से ब्लडप्रेशर नियंत्रण में रहता है। साथ ही यह सूजन को भी कम करता है।  ये भी पढ़ें-बालों को काला करने के उपाय

पुदीना साल में हर समय मौजूद रहता है। इसलिए इसका सेवन आप नियमित करें और स्वस्थ रहें। पुदीना प्राकृतिक औषधी है जिसके इस्तेमाल से कभी कोई बीमारी आपको हानी नहीं पहुंचाएगी।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।