आनंदासन के लाभ

योग शरीर को निरोग रखता है। कई आसन हैं जो शरीर को उर्जा प्रदान करते हैं लेकिन उनमें से एक है आनंदासन। आनंदासन योग एक एैसा योग है जिससे भटका हुआ मन शांत और एकाग्र होता है। यह आध्यात्मिक रूप से भी बेहद फायदेमंद होता है। इस योग को करने से इंसान को शारीरिक और मानसिक लाभ मिलता है। आनंदासन कैसे किया जा सकता है और इससे आपको क्या फायदे हो सकते हैं इस बारे में जानते हैं।

कैसे करें आंनदासन
1. कंबल को बिछाकर वज्रासन में बैठें और दोनों हाथों को पैरों के पंजों पर इस तरह से रखें की उंगलियां आमने सामने हों।
2. सिर और रीढ की हड्डी को सीधा रखें और आंखें बंद रखें।
3. श्वासों की गति गहरी और धीमी रखें ।
4. ध्यान आज्ञाचक्र पर केंद्रित करने का प्रयास करते रहें।

यह आसन 4 मिनट तक करें। यदि लाभ अधिक लेना चाहते हो तो आसन लंबा भी किया जा सकता है। इस आसन को खाना खाने के बाद भी किया जा सकता है।

आनंदासन के फायदे
1. तनावमुक्ति और उच्च रक्तचाप में बेहद लाभकारी है।
2. खाना जल्दी पचता है।
3. काम-वासना और गुस्से को शांत करता है।
4. उत्तेजना और बेवजह की चिंता दूर होती है।
5. यह आसन थकान भी दूर करता है।

इस आसन आनंद मदिरासन भी कहा जाता है। यह शरीर को कई रोगों से दूर रखता है और मन को शांत चित रखता है। इस आसन को प्रतिदिन करना चाहिए।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।