गठिया के दर्द का घरेलू उपचार है कच्चा पपीता

home-remedies-for-gout-treatment-in-hindi

गठिया का दर्द एक कष्टदायक रोग है। इसक दर्द की शुरूआत पैरों से होती है। उम्र के बढ़ने के साथ यह दर्द और भी तेज होता जाता है। इंसान को असहनीय दर्द होता है। और इस वजह से केवल मरीज ही नहीं परेशान होते हैं बल्कि इससे घर के और लोग भी परेशान होने लगते  हैं। भारत में गठिया के मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। वैदिक वाटिका आपको एक एैसे घरेलू उपाय को बता रही है जिसकी मदद से आप आसानी से गठिया के दर्द को से निजात पा सकते हो। हम बात कर रहे हैं कच्चे पपीते से बनने वाले आयुवेर्दिक रस की। कितना भी पुराना गठिया का दर्द क्यों ना हो इस आयुवेर्दिक ड्रिंक को पीने से वह ठीक हो जाती है।

गठिया के दर्द को खत्म करता है कच्चा पपीता :
क्या है गठिया का दर्द और कारण वो भी आपको समझाना चाहिए।

जब खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ती है तब यह यूरिक एसिड क्रिस्टल के जरिए जोड़ों में जमा होने लगता है जिसके कारण शरीर के कुछ हिस्सों में दर्द होता है।
जैसे एड़ियों में दर्द, पैरों की उंगलियों में दर्द और घुटनों में दर्द। आप चाहते हुए भी गठिया के दर्द को अनदेखा नहीं कर सकते हो। क्योंकि दर्द ही इतना भंयकर होता है कि इंसान ठीक तरह से चल फिर भी नहीं पाता है।

सबसे पहले जानते हैं गठिया के क्या लक्षण होते हैं:
दर्द की वजह से चलने में दिक्कत होना
हाथों का सही तरह से काम ना कर पाना
बेवजह की थकान लगे रहना
सूजन होना
जोड़ों में कड़कपन आना
नींद का ठीक तरह से ना आना
बुखार का आना
बदन मे दर्द हेाना और
मांसपेशिशें में भी पीड़ा होना।

गठिया के दर्द का मुख्य कारण
खान पान में पोषण की कमी का होना
शरीर में थाइराइड की समस्या का होना
कैल्श्यिम की कमी होना

मोटापा का बढ़ना
शरीर में आयरन की कमी होने की वजह से जोड़ों में दर्द व अकड़न का आना।
शरीर में एस्ट्रोजन की कमी होना आदि मुख्य कारण हैं अर्थराइटिस होने के।

अब हम आपको बता रहें कच्चे पपीते के रस से गठिया को ठीक करने की विधि को।

जरूरी सामग्री
सबसे पहले आप दो लीटर पानी को उच्छे से उबालें।
सामान्य सा कच्चा और अच्छे से धुला हुआ कच्चा पपीता लें।
अब इस पपीते को काट कर इसमें से इसके बीजों को अलग करें। और इसके टुकड़े कर लें।
इसके बाद आप उबलते हुए पानी में इन कटे हुए कच्चे पपीतों को चार से पांच मिनट तक उबालें। अब उसमें उपर से दो चम्मच ग्रीन टी चायपत्ति डाल दें।
इसके बाद आप गैस बंद कर लें और इसे छानकर किसी  मग या जग में डाल दें।
जब यह ठंडा हो जाए तो इस रस को पूरे दिन में कभी भी पीते रहें।

यह एक कारगर घरेलू आयुवेर्दिक उपचार है जो आपको गठिया से होने वाले भंयकर दर्द से निजात दिलवा सकता है। कभी कभी गठिया की परेशानी अधिक हो जाती है। एैसे में जरूरी है कि आप अपने डाॅक्टर से जरूर चेकअप करवाएं।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।