गरूड़ासन के फायदे और करने की विधि

पक्षीयों के व्यवहार और उससे इंसान को मिलने वाले फायदों को देखते हुए  महार्षि पंताजली ने कई योग क्रियाओं काे बनाया था। उनमें से एक योग का आसन है गरूड़ासन। गरूड़ एक पक्षी है जिसे भगवान विष्णु की सवारी भी कहा जाता है। इस आसन को करने से इंसान का शरीर गरूड़ पक्षी के आकार की तरह बनता है। जिस वजह से इसे गरूड़ासन कहा जाता है। वैदिक वाटिका आपको बता रही है गरूड़ासन से मिलने वाले लाभ और इस योग को करने का तरीका। सबसे पहले जानते हैं गरूड़ासन से मिलने वाले फायदों के बारे में।

गरूड़ासन के फायदे
पुरूषों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है यह रोग।
हर्निया रोग में लाभकारी होता है।
कमर का दर्द ठीक होता है।
गठिया की समस्या से होने वाला दर्द भी ठीक होने लगता है।
साइटिका जो कि एक गभीर बीमारी है उससे भी गरूड़ासन आपको निजात दिलवाता है।
टांगों की नस व नाड़ियों और मांस पेशियां मजबूत बनती हैं।
हाथों में ताकत आती है।
ये तो थे गरूड़ासन से मिलने वाले फायदे।
आइये जानते हैं गरूड़ासन करने की विधि

जमीन पर सबसे पहले दरी या कंबल बिछा लें।
अब उस पर सीधे खड़े हो जाएं।
इसके बाद आप अपने दाएं पैर को अच्छी तरह से जमनी पर जमा लें।
बांए पैर को जमीन से उठा कर संतुलन बनाएं।
इस आसन की स्थिति में आप अपनी बांई टांग को दाईं टांग पर सर्प यानि कि सांप की तरह लपेट लें।
इसके बाद अपने दोनों हाथों को भी आपस में लपेटते हुएए उंगलियों और हथेलियों को आपस में मिला लें। जैसा कि चित्र मे दिखाया गया है।
अब अापके हाथों की कलई को नाक की सीधाई के समांतर सटी हुई हो। जैसे गरूड़ की चोंच होती है।
यह आसन की पूर्ण स्थिति है।
अपनी सांस को इस योग की पूरी स्थिति में आने के बाद रोक कर रखें। जितना आपसे हो सकता है।
फिर वापस अपनी पहले वाली अवस्था में आराम से आ जाएं। एैसा ही आप दूसरी टांग से भी गरूड़ासन को दोहराएं।

शुरू में इस आसन को आराम से करें। और धीरे.धीरे गरूड़ासन योग के समय को बढ़ाएं।

कौन लोग ना करें गरूड़ासन को
वे लोग जिनके पैर मे चोट लगी हुई हो अथवा पैर की हड्डी टूटी हुइ हो वे लोग इस आसन का ना करें।

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।