फ़ूड पॉइजनिंग के लक्षण, कारण और उपचार

जाने फ़ूड पॉइजनिंग क्या है और इसके लक्षण, कारण और घरेलू उपचार, know what is food poisoning and its symptoms with home remedies in hindi

जब भी हम बाहर का कुछ खा लेते हैं या बाहर के खाने में अधिक दिलचस्पी लेते हैं तो अक्सर हमारा हाजमा खराब हो जाता है। इसका एक कारण यह भी हैं कि जो भी हमें मिलता है उसे हम अक्सर जल्दी जल्दी खा लेते हैं जिसके कारण हमें कई तरह की बीमारियों से गुजरना पड़ता है या फिर हमें फ़ूड पॉइजनिंग हो जाती है। फ़ूड पाइजनिंग का मुख्य कारण है गंदगी।

जब भी हम कुछ खाते हैं अगर वो गंदगी वाले स्थान पर हो या फिर वहा गंदगी हो तो ऐसे में हानिकारक बैक्टीरिया हमारे शरीर के अंदर चले जाते हैं और यह बैक्टीरिया हमारे शरीर में संक्रमण फैलाते है जिसके कारण हमारी तबियत खराब ही जाती है और कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

फ़ूड पॉइजनिंग के लक्षण

जब भी हमें फ़ूड पॉइजनिंग हो जाता है तो हमारे शरीर में कई तरह की बीमारियों के लक्षण दिखाई देते हैं जैसे कि :-

  • बार बार उल्टी आना,
  • पेट दर्द होना,
  • सिर दर्द होना,
  • दस्त आना,
  • शरीर का थका हुआ और कमजोर महसूस होना आदि ।

फ़ूड पॉइजनिंग के कारण

फ़ूड पॉइजनिंग का सामना हमें तब करना पड़ता है जब हम सफाई पर ध्यान नहीं देते जैसे कि :-

  • वासी खाने का सेवन,
  • खाना बनाते समय गंदे पानी का इस्तेमाल,
  • खाने पर मक्खियों का बैठना,
  • सब्जियों और फलों को अच्छे से न धोना,
  • खाना गंदे हाथों से खाना आदि ।

फ़ूड पॉइजनिंग होने पर घरेलू उपाय

जब हानिकारक बैक्टीरिया हमारे शरीर के अंदर चले जाते हैं तो हमें फ़ूड पॉइजनिंग हो सकती है। ऐसे में जब इसे रोकना हो तो सबसे पहले साफ़ सफाई का ध्यान रखना चाहिए। सफाई का ध्यान रखते हुए हमेशा फलों और सब्जियों को धोकर खाना चाहिए। ऐसा करने से हम फ़ूड पॉइजनिंग के खतरे से आप बच सकते हो और अगर आप फ़ूड पॉइजनिंग की जकड़ में होते हो तब आपको  कुछ घरेलू उपाय करने चाहिए :-

पानी का सेवन

जब भी फ़ूड पॉइजनिंग हो जाए तब सबसे पहले आपको इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि आपके शरीर में पानी की कमी न आ जाये।  इसलिए हमें ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए इसके साथ आपको सूप, चावल का पानी, नारियल पानी, खिचड़ी, ग्लूकोज आदि लेते रहना चाहिए।

केला

केला में पोटेशियम की अधिक मात्रा होती है इसलिए जब भी हमें फ़ूड पॉइजनिंग हो जाती है तब आपको केले का सेवन करना चाहिए। केले को दही में मैश करके खाने से आपको दस्त से भी छुटकारा मिल जाता है।

अदरक

अदरक से हमारे व्यंजन तो स्वादिष्ट होते है साथ ही यह पाचन संबंधी समस्याओं के लिए भी एक घरेलू उपाय है। एक चम्मच शहद में अदरक के रस की कुछ बुँदे मिलाकर लेने से पेट का दर्द ठीक हो जाता है।

दही का सेवन

दही में एंटी बैक्टीरिया गुण पायें जाते हैं जो हमारे लीवर में होने वाले संक्रमण को रोकते हैं। फ़ूड पॉइजनिंग वाले मरीज को खाली पेट या खाने के तुरंत बाद दही देना चाहिए।इससे उनको फायदा प्राप्त होगा।

खिचड़ी

फ़ूड पॉइजनिंग वाले मरीजों को खिचड़ी का सेवन करना चाहिए खिचड़ी हल्की होने के कारण आसानी से पच जाती है। यह मरीजो के लिए बहुत फायदेमंद मानी जाती है।

जीरा

फ़ूड पॉइजनिंग होने पर जीरा बहुत ही फायदेमंद होता है। एक चम्मच भुने जीरे को पीसकर अपने सूप में मिलाकर लेने से पेट की सूजन और दर्द कम हो जाता है।

तुलसी

तुलसी संक्रमण के इलाज के लिए बहुत ही शानदार उपाय होता है। फ़ूड पॉइजनिंग होने पर तुलसी के पत्तों के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर खाने से आप को बहुत ही फायदा मिलाता है।

नींबू पानी का घोल

एक गिलास पानी में नींबू का रस, नमक, और चीनी मिलाकर एक घोल तैयार करें, और  उस घोल को पी लीजिए। इसका सेवन आप एक से दो घंटे के बीच कर सकते हो।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।