माइग्रेन का सफल घरेलू उपचार

माइग्रेन एक गंभीर बीमारी है जिसका समय रहते उपचार होना जरूरी है। माइग्रेन में रोगी को बेचैन कर देने वाला दर्द होता है। माइग्रेन को कई नामों से जाना जाता है। इसे आधे सिर का दर्द, सुदाअ निस्फी, शकीका आदि भी कहा जाता है। कई बार दवाइयों से भी माइग्रेन का दर्द कम नहीं होता है। यह दर्द सुबह से ही शुरू हो जाता है। और दिन में यह दर्द काफी तेज हो जाता है। लेकिन माइग्रेन को सफल घरेलू उपचार के जरिए ठीक किया जा सकता है। यह दर्द में राहत देता है।

माइग्रेन किस वजह से होता है यह भी जानना जरूरी है। माइग्रेन की मुख्य वजह है, चिंता करना, देर रात तक काम करना, मानसिक दुर्बलता, जुकाम, नजला, कब्ज, मलेरिया का प्रभाव आदि। महिलाओं में माइग्रेन के मुख्य कारण है, हिस्टीरिया, अधिक शारीरिक या मानसिक कार्य करना, सदमा लगना, बेवजह पेरशान रहना आदि। महिलाएं पुरूषों की तुलना में माइग्रेन से अधिक पीड़ित रहती हैं।

माइग्रेन के रोगी के लक्षण

इस रोग में सिर दर्द का अधिक होना, सिर के दायें या बायें भाग में दर्द होना, दर्द की वजह से उल्टी आना, सिर में दर्द के साथ शरीर में सुन्नता भी आ सकती है। आधे सिर में दर्द बने रहना आदि लक्षण होते हैं। यह दर्द सिर से शुरू होकर आंख और जबड़े तक फैल जाता है। और रेागी को अत्याधिक दर्द होता है।

माइग्रेन की समस्या को दूर करने के प्राकृतिक अचूक उपाय

माइग्रेन का दर्द होने पर आप देशी घी में गुड खायें यह आधे सिर मे होने वाले दर्द से निजात दिलाता है। यदि दर्द सुबह से ही होने लगे तो आप दूध में जलेबी या रबड़ी का सेवन करें। एैसा करने से आधे सीसी का दर्द रूक जाता है।माइग्रेन के दर्द से यदि उल्टी हो रही हो तो खाने के समय में रोगी को शहद खिलाएं एैसा करने से उल्टी और दर्द बंद हो जाता है।

यदि दर्द सुबह से ही शुरू हो जाता है तो तुलसी के पत्तों को छाया में सुखाकर उसका चूर्ण बना लें और फिर इसमें शहद मिलाकर दिन में तीन बार चाटें। यह दर्द में राहत देगा और धीरे-धीरे माइग्रेन के प्रभाव को कम करेगा।

आधे सिर के हिस्से में दर्द ज्यादा हो तो आप रोगी को आधा चम्मच शहद में आधा चम्मच नमक मिलाकर चटाएं। हींग भी माइग्रेन के दर्द से रहात देने में असरकारी है। आप पानी में हींग को अच्छी तरह से घोल लें फिर इसे सूंघे और इसका लेप माथे पर लगाएं। दर्द से निजात मिलेगा।

अंगूर का रस सुबह पीने से माइग्रेन के दर्द से निजात मिलता है। सुबह से शुरू होने वाले दर्द में आप सुबह-सुबह ही 150 ग्राम पानी में 50 ग्राम शक्कर मिलाकर धीरे-धीरे पीएं यह सिर दर्द से मुक्ति दिलवाता है।

आधे सिर के दर्द से निजात पाने के लिए आप सूर्योदय से पहले उठकर 25 ग्राम खील को शहद के साथ सेवन करें और फिर आधे घंटे की नींद लें एैसा 1 सप्ताह तक करने से माइग्रेन के दर्द से मुक्ति मिलती है।
लहसुन माइग्रेन के दर्द से निजात दिलवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। लहसुन को पीस कर उसका लेप दर्द वाली जगह पर लगाने से दर्द से निजात मिलता है साथ ही आप लहसून के रस की दो छोटी बूंदे नाक के छिद्र में डालें।

 

माइग्रेन से बचने के लिए आपको माइग्रेन को बढ़ाने वाले आहारों से बचना चाहिए।

बीन्स का सेवन
माइग्रेन के दर्द को बढ़ाती है बीन्स। बीन्स के अलावा आप सोयाए मटर की फलीए सोया साॅस और टोफू को भी खाने से बचना चाहिए। ये सभी चीजें माइग्रेन को बढ़ाती हैं।

मिर्च और अचार
माइग्रेन के दर्द को तेजी से बढ़ा सकता है अचार व मिर्च का सेवन करना। इसलिए अचार व मिर्च का सेवन भी बंद कर दें।

पनीर का सेवन
यदि आप माइग्रेन से होने वाले दर्द से बचना चाहते हैं तो पनीर का सेवन भी करना बंद कर दें। क्योंकि पनीर माइग्रेन के दर्द को बढ़ाती है।

खट्टे फलों का सेवन
किसी भी तरह के खट्टे फलों का सेवन करना भी माइग्रेन के दर्द को बढ़ा सकता है।

बर्गर व पिज्जा का सेवन
जंक फूड खाना माइग्रेन के रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है। इसलिए जंक फूड में खासतौर से पिज्जा का सेवन करना बंद कर दें।

आलूबुखारा
आलूबुखारा भी माइग्रेन के दर्द को बढ़ा सकता है। इसलिए इससे भी परहेज करें।

मदीरा
शराब व मदीरा पीना बंद कर दें। माइग्रेन को बहुत तेजी से बढ़ाती है शराब।

माइग्रेन का सही समय पर इलाज होना जरूरी है क्योंकि इस दर्द से रोगी बेचैन हो जाता है और गलत दवाइयों का सेवन करने लगता है। जिसकी वजह से दूसरी और बीमारियां रोगी को लग जाती है। आयुर्वेद में माइग्रेन का सटीक इलाज मौजूद है लेकिन यदि दर्द बहुत ही तेज है तो आप तुरंत डाक्टर को दिखाना न भूलें।

sehatsansar youtube subscribe
डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।