कुत्ते के काटने का इलाज

कुत्ते के काटने का विष खतरनाक होता है। कुत्ते के काटने से कई तरह के संक्रमक रोग लग सकते हैं जिसमें इंसान पागल तक हो जाता है। कई बार कुत्ते के काटने के बाद इंसान को तुंरत कोई उपचार नहीं मिल पाता है और एैसे में कुछ घरेलू उपयोग बड़े काम के होते हैं। पुराने समय में भी कुत्ते के काटने पर लोग इन उपायों का इस्तेमाल किया करते थे। वैदिक वाटिका आपको इन पुराने उपयों को बताएगा। यदि कभी कुत्ता काट लें और डाक्टर न मिलें तो तुरंत उपनाये ये घरेलू उपाय।

कुत्ते के काटने का उपचार 
 1. आम की गुठली को पानी के साथ घिसें और कुत्ते के काटे वाली जगह पर लगाएं। एैसा करने से विष नष्ट हो जाता है।
2. पिसी हुई लाल मिर्च को तुरंत ही कुत्ते के काटे वाले जगह पर लेप लगाने से कुत्ते का विष नहीं लगता है।
3. एलोवेरा को एक ओर से छिलकर उसके गूदे पर सेंधा नमक डालकर कुत्ते के काटे वाली जगह पर लगाकर किसी सूती कपड़े से उसे बांध लें और एैसा 2 से 3 दिनों तक लगातार करें। यह कुत्ते के विष का खत्म कर देता है।
4. प्याज का रस, अखरोट की गिरी को बराबर मात्रा में पिस कर उसमें नमक मिला लें और फिर इसे शहद में मिलाकर कुत्ते के काटे स्थान पर लेप करके पट्टी कर लें। एैसा करने से शरीर पर कुत्ते के विष का प्रभाव नहीं पड़ता।
5. शहद के साथ पीसी हुई प्याज को मिलाकर कुत्ते के द्वारा काटी हुई जगह पर लगाने से विष का प्रभाव खत्म हो जाता है।
6. प्याज का रस पीने से भी लाभ मिलता है।
7. चैलाई की जड़ 50 से 100 ग्राम पानी में पीसकर घोलकर बार-बार रोगी को पिलाने से कुत्ते का विष खत्म हो जाता है।
8. कुत्ते के काटे स्थान को साबुन से धोकर डिटोल लगाकर पट्टी बांधने से विष का प्रभाव नहीं पड़ता है।
9. 15 काली मिर्च और 2 चम्मच जीरा को पानी में डालकर इसे पीसकर कुत्ते के काटे वाले स्थान पर लगाते रहने से कुछ दिनों में विष खत्म हो जाता है।
10. गेहूं के आटे की कच्ची रोटी को कटे स्थान पर बांधकर कुछ देर बाद उसे उसी कुत्ते को खाने को दें जिसने काटा है। यदि वह कुत्ता रोटी खा ले तो समझें कि कुत्ता पागल नहीं है। और न खाए तो समझें वह पागल था।

कुत्ते के काटने से खतरनाक रोग हो सकते हैं। इसे हल्के में न लें। यदि आप किसी एैसी जगह पर हों जहां डॉक्टर पहुंच से दूर हो एैसे में ये नुस्खे आपको बचा सकते हैं। कुत्ते के काटने पर डाक्टर के पास जाना जरूरी होता है। इसलिए हमेशा अपना ध्यान रखें।   ये भी पढे-चर्म रोग के लक्षण और उपचार

डिसक्लेमर : sehatsansar.com में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी sehatsansar.com की नहीं है। sehatsansar.com में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।